• होम
  • विज्ञान
  • ख़बरें
  • वैज्ञानिकों ने बनाया ब्रह्मांड का सबसे बड़ा 3D मैप, कैद हुईं 60 लाख आकाशगंगाएं

वैज्ञानिकों ने बनाया ब्रह्मांड का सबसे बड़ा 3D मैप, कैद हुईं 60 लाख आकाशगंगाएं

Universe 3D Map : टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (TIFR) के वैज्ञानिकों ने खगोलविदों की इंटरनेशनल टीम के साथ मिलकर किया मैप पर काम।

वैज्ञानिकों ने बनाया ब्रह्मांड का सबसे बड़ा 3D मैप, कैद हुईं 60 लाख आकाशगंगाएं

मैप बनाने में जिस इंस्‍ट्रूमेंट की मदद ली गई, उसका नाम डार्क एनर्जी स्पेक्ट्रोस्कोपिक इंस्ट्रूमेंट (DESI) है।

ख़ास बातें
  • ब्रह्मांड का सबसे व्‍यापक 3D मैप तैयार
  • 60 लाख से ज्‍यादा आकाशगंगाओं पर पड़ी नजर
  • मैप पर अभी और काम चलता रहेगा
विज्ञापन
भारतीय वैज्ञानिकों ने खगोलविदों की एक इंटरनेशनल टीम के साथ मिलकर ब्रह्मांड के सबसे व्‍यापक 3D मैप (3D Map of the Universe) को अनवील किया है। टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (TIFR) के साइंटिस्‍ट उस टीम में शामिल थे। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, 3D मैप से ब्रह्मांड के 11 अरब साल के इतिहास की जानकारी मिलती है। मैप बनाने में जिस इंस्‍ट्रूमेंट का इस्‍तेमाल किया गया, उसका नाम डार्क एनर्जी स्पेक्ट्रोस्कोपिक इंस्ट्रूमेंट (DESI) है। DESI ने 60 लाख से ज्‍यादा आकाशगंगाओं के प्रकाश को मापने में वैज्ञानिकों की मदद की। इस इंस्‍ट्रूमेंट में 5 हजार रोबोटिक्‍स ‘आंखें' हैं।  

रिपोर्टों के अनुसार, मैप की मदद से ब्रह्मांड को उसकी शुरुआती स्‍टेज में देखने में मदद मिलती है। वैज्ञानिकों ने इसमें ‘कॉस्मिक वेब' (cosmic web) को भी दर्शाया है। यह आकाशगंगाओं का जटिल पैटर्न है, जिसमें फिलामेंटरी स्‍ट्रक्‍चर होते हैं। ‘कॉस्मिक वेब' हमारे ब्रह्मांड के घने इलाकों की जानकारी देता है। 

रिपोर्टों के अनुसार, TIFR के डॉ. शादाब आलम की टीम ने खगोलविदों की इंटरनेशनल टीम के साथ मिलकर मैप पर काम किया। DESI इंस्‍ट्रूमेंट 5 साल तक अपना ऑब्‍जर्वेशन करता रहा, जिसके बाद 60 लाख से ज्‍यादा आकाशगंगाओं को मापा जा सका। टीम को उम्‍मीद है कि एक दिन मैप में 4 करोड़ आकाशगंगाओं का डेटा होगा। 

रिसर्चर्स ने अपने पेपर arXiv पर पोस्‍ट किए हैं। इतने बड़े डेटासेट से ब्रह्मांड की शुरुआत के बारे में लोगों को नई जानकारी मिल सकती है। ब्रह्मांड के विस्‍तार को लेकर भी खोज हो सकती है। रिपोर्ट्स के अनुसार, मैप पर अभी काम जारी है। जैसे-जैसे सर्वे आगे बढ़ता जाएगा और जानकार‍ियां मिलेंगी, जिससे ब्रह्मांड के डेवलपमेंट पर भी रोशनी डाली जा सकेगी।  

इस काम में दुनियाभर के 70 से ज्‍यादा इंस्टिट्यूटों के वैज्ञानिक शामिल हुए हैं। DESI इंस्‍ट्रूमेंट अमेरिका की एक ऑब्‍जर्वेट्री में लगाया गया है। याद रहे कि ब्रह्मांड के अब तक के सबसे बड़े 3D मैप में लगभग 30 लाख आकाशगंगाओं को दिखाया गया था। वह मैप साल 2000 व 2015 के बीच तैयार किया गया था। 
 
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

प्रेम त्रिपाठी

प्रेम त्रिपाठी Gadgets 360 में चीफ सब एडिटर हैं। 10 साल प्रिंट मीडिया ...और भी

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. OnePlus जल्द लॉन्च करेगी सस्ते ईयरबड्स Nord Buds 3r, FCC लिस्टिंग में फीचर्स का खुलासा
  2. Vivo S19 सीरीज होगी 30 मई को लॉन्च, यहां जानें क्या कुछ होगा खास
  3. boAt Wave Sigma 3 स्मार्टवॉच भारत में लॉन्च, 1200 से कम कीमत और 7 दिन चलेगी बैटरी
  4. Accordion Google Doodle: गूगल आज डूडल के जरिए सेलिब्रेट कर रहा अकॉर्डियन की सालगिरह
  5. Infinix Note 40 5G फोन 108MP कैमरा, 5000mAh बैटरी, 33W चार्जिंग के साथ लॉन्च, जानें कीमत
  6. OnePlus Ace 3 Pro पर आई नई जानकारी, 4 कैमरों और 100W चार्जिंग के साथ होगा पेश!
  7. Honor Magic V Flip में हो सकता है बड़ा कवर डिस्प्ले, सर्कुलर कैमरा आइलैंड
  8. Hero MotoCorp जल्द लॉन्च करेगी नए इलेक्ट्रिक स्कूटर
  9. Xiaomi ने लॉन्च किया HDR सपोर्ट और 5-इंच डिस्प्ले के साथ आने वाला डोरबेल कैमरा, जानें कीमत
  10. Apple के iPhone 16 Pro Max में हो सकता है 48 मेगापिक्सल अपग्रेडेड मेन कैमरा
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »