Bitcoin के लिए मुश्किल बन रहे सट्टेबाजी वाले मीम टोकन्स

क्रिप्टो मार्केट के जानकारों का मानना है कि फ्रॉग के कार्टून से जुड़े Pepe जैसे मीम टोकन्स से नेटवर्क में गड़बड़ी हो सकती है और इससे सबसे पुरानी क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन की वैल्यू पर असर पड़ सकता है

Bitcoin के लिए मुश्किल बन रहे सट्टेबाजी वाले मीम टोकन्स

बहुत से देशों में क्रिप्टोकरेंसीज को लेकर रेगुलेशंस बनाए जा रहे हैं

ख़ास बातें
  • पिछले महीने मीम टोकन्स से ब्लॉकचेन पर ट्रांजैक्शंस बहुत अधिक हो गई थी
  • क्रिप्टो एक्सचेंज Binance ने इस वजह से बिटकॉइन विड्रॉल पर रोक लगा दी थी
  • बिटकॉइन की वैल्यू में काफी गिरावट आ चुकी है
विज्ञापन
मार्केट वैल्यू के लिहाज से सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी Bitcoin की ब्लॉकचेन को मेंटेन करने वाले कोडर्स इस लेकर मुश्किल में हैं कि उन्हें नेटवर्क में रुकावट का कारण बन रहे मीम टोकन्स को बाहर करना चाहिए या नहीं। बड़ी संख्या में सट्टेबाजी से जुड़े मीम टोकन्स की वजह से पिछले महीने ब्लॉकचेन पर ट्रांजैक्शंस बहुत अधिक हो गई थी। इससे प्रोसेसिंग फीस में भी 11 गुना की बढ़ोतरी हुई थी। 

Bloomberg की रिपोर्ट के अनुसार, बड़े क्रिप्टो एक्सचेंजों में से एक Binance को इस वजह से बिटकॉइन के विड्रॉल पर अस्थायी तौर पर रोक लगानी पड़ी थी। हालांकि, इस स्थिति में सुधार हुआ है। क्रिप्टो मार्केट के जानकारों का मानना है कि फ्रॉग के कार्टून से जुड़े Pepe जैसे मीम टोकन्स से नेटवर्क में दोबारा गड़बड़ी हो सकती है और इससे इस मार्केट की सबसे पुरानी क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन की वैल्यू पर असर पड़ सकता है। इन एक्सपर्ट्स का कहना है कि इस मुश्किल से बचने के लिए सट्टेबाजी से जुड़ी मीम टोकन्स की ट्रांजैक्शंस को ब्लॉक करने वाले सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जा सकता है, जो एक तरह का स्पैम फिल्टर होता है। 

बिटकॉइन कोडर्स में शामिल Ali Sherief ने कहा, "मुझे लगता है कि सिस्टम का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है। मीम टोकन्स के लिए बिटकॉइन का बेस लेयर के तौर पर इस्तेमाल नहीं होना चाहिए। बिटकॉइन नेटवर्क के डिजिटल करेंसी के तौर पर सामान्य इस्तेमाल में इस तरह के बेकार टोकन्स रुकावट बन रहे हैं।" हालांकि, कुछ अन्य एक्सपर्ट्स का मानना है कि इसके लिए Ordinals कहे जाने वाले सॉफ्टवेयर इनोवेशन का इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे बिटकॉइन की ब्लॉकचेन बड़ी संख्या में मीम टोकन्स और नॉन-फंजिबल टोकन्स को सपोर्ट दे सकती है। 

डिवेलपर Casey Rodarmor ने Ordinals को बनाया है। इससे यूजर्स को Satoshis पर वीडियो, इमेज और टेक्स्ट जैसे डिजिटल कंटेंट को रखने की सुविधा मिलती है। बिटकॉइन की Satoshis सबसे छोटी यूनिट होती है। एक बिटकॉइन में 10 करोड़ Satoshis होते हैं। पिछले कुछ महीनों में बिटकॉइन के प्राइस में भारी गिरावट आई है। इसका क्रिप्टो मार्केट पर भी बड़ा असर पड़ा है। बहुत से देशों में क्रिप्टोकरेंसीज को लेकर रेगुलेशंस भी बनाए जा रहे हैं। इससे इस मार्केट में पारदर्शिता बढ़ने की संभावना है। 

भारतीय एक्सचेंजों में क्रिप्टोकरेंसी की कीमतें

Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

आकाश आनंद

Gadgets 360 में आकाश आनंद डिप्टी न्यूज एडिटर हैं। उनके पास प्रमुख ...और भी

संबंधित ख़बरें

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. itel S24, itel T11 Pro जल्द होंगे भारत में लॉन्च, जानें सबकुछ
  2. Xiaomi ने लॉन्च किया मोबाइल से कंट्रोल होने वाला स्मार्ट वाटर हीटर, इसमें एंटीबैक्टीरियल टेक्नोलॉजी भी मिलती है
  3. टाटा मोटर्स की तमिलनाडु की फैक्टरी में बनेंगी JLR की लग्जरी कारें!
  4. Elon Musk के विजिट से पहले भारत की नई EV पॉलिसी पर मीटिंग में शामिल हुई Tesla  
  5. चीन ने WhatsApp और Threads को Apple App Store से हटाया, जानें कारण
  6. 6000mAh की बड़ी बैटरी, 44W चार्जिंग वाला Vivo Y200i 5G कल होगा लॉन्च, जानें प्राइस, फीचर्स सबकुछ
  7. सुजुकी मोटरसाइकिल ने भारत में की 80 लाख टू-व्हीलर्स की मैन्युफैक्चरिंग
  8. Honor X9b 5G पर बंपर छूट, Rs 18,999 में खरीदें! Amazon पर ऐसे मिलेगी डील
  9. क्रिप्टो मार्केट में गिरावट, बिटकॉइन का प्राइस 61,000 डॉलर से ज्यादा
  10. Vivo V30e स्‍मार्टफोन भारत में 2 मई को होगा लॉन्‍च, मिलेंगे ये तगड़े फीचर्स
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »