• होम
  • ऐप्स
  • ख़बरें
  • चीन की दादागिरी: क्या Apple अपने App store से लाखों ऐप्स को कर देगा डिलीट?

चीन की दादागिरी: क्या Apple अपने App store से लाखों ऐप्स को कर देगा डिलीट?

चीन पहले से ही Instagram, Facebook और YouTube जैसे कई लोकप्रिय विदेशी सोशल मीडिया ऐप्स की वेबसाइटों को ब्लॉक करता आया है, लेकिन चीन में iPhone यूजर्स अनधिकृत VPN सर्विस का उपयोग करके Apple के App Store से अपने मनचाहे ऐप्स डाउनलोड कर लेते थे।

चीन की दादागिरी: क्या Apple अपने App store से लाखों ऐप्स को कर देगा डिलीट?
ख़ास बातें
  • Apple को आखिरकार चीन के नए नियमों के आगे झुकना पड़ा
  • डेवलपर्स को ऐप्स को चाइनीज App Store पर लाने के लिए लाइसेंस चाहिए होगा
  • लाइसेंस प्राप्त करने के लिए डेवलपर्स के पास चीन में एक कंपनी होनी चाहिए
विज्ञापन
Apple को आखिरकार चीन के नए नियमों के आगे झुकना पड़ा और अब कंपनी का 'App Store' चीन में अन्य ऐप स्टोर्स में शामिल हो गया है, जिसमें डेवलपर्स को अपने ऐप को चाइनीज ऐप स्टोर पर लिस्ट करने के लिए चीनी सरकार से लाइसेंस की आवश्यकता होती है। यह नया नियम देश में ऐप्स पर अपना कंट्रोल कड़ा करने के लिए चीनी सरकार के चल रहे प्रयासों का हिस्सा है।

Reuters की रिपोर्ट के अनुसार, Apple ने चाइनीज ऐप स्टोर पर लिस्ट होने के लिए नए नियमों को लागू किया है, जहां अब नए ऐप्स को चीनी सरकार के लाइसेंस का प्रमाण दिखाने की आवश्यकता होगी। रिपोर्ट आगे बताती है कि लाइसेंस प्राप्त करने के लिए डेवलपर्स के पास चीन में एक कंपनी होनी चाहिए या स्थानीय पब्लिशर के साथ काम करना चाहिए। इस आवश्यकता ने कई विदेशी ऐप्स के लिए चीन ऐप स्टोर पर लिस्ट होना मुश्किल बना दिया है।

नए नियमों के तहत, Apple अब अगले जुलाई से अपने चीन ऐप स्टोर पर अनरजिस्टर्ड विदेशी ऐप लिस्ट नहीं कर पाएगी। चीनी अधिकारियों का कहना है कि ऑनलाइन घोटालों, अश्लील साहित्य और अन्य हानिकारक कंटेंट पर नकेल कसने के लिए नए नियमों की आवश्यकता है। हालांकि, आलोचकों का कहना है कि नियम वास्तव में चीनी सरकार को इस बात पर अधिक कंट्रोल देने के बारे में हैं कि चीन में लोग किन ऐप्स का उपयोग कर सकते हैं।

चीन पहले से ही Instagram, Facebook और YouTube जैसे कई लोकप्रिय विदेशी सोशल मीडिया ऐप्स की वेबसाइटों को ब्लॉक करता आया है, लेकिन चीन में iPhone यूजर्स अनधिकृत VPN सर्विस का उपयोग करके Apple के App Store से अपने मनचाहे ऐप्स डाउनलोड कर लेते हैं। हालांकि इससे निपटने के लिए देश के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने जुलाई में इन नए नियमों को जारी किया था, जिसके बाद अब आने वाले समय में Apple अपने चीन ऐप स्टोर में ऐसे ऐप्स को लिस्ट नहीं कर पाएगी, जिनके ऑपरेटर सरकार के साथ रजिस्टर्ड न हों।

यह नया नियम विदेशी ऐप डेवलपर्स और उन यूजर्स के लिए एक बड़ा झटका है जो बड़े पैमाने पर मौजूद पॉपुलर विदेशी ऐप्स को उपयोग करना चाहते हैं। यह चीन में इंटरनेट पर कंट्रोल करने की चीनी सरकार की बढ़ती इच्छा की ओर भी इशारा करता है।
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

ये भी पढ़े: Apple, Apple App Store, China, Apple China, China Apple Fight
नितेश पपनोई Nitesh has almost seven years of experience in news writing and reviewing tech products like smartphones, headphones, and smartwatches. At Gadgets 360, he is covering all ...और भी
Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

विज्ञापन

#ताज़ा ख़बरें
  1. क्रिप्टो एक्सचेंज WazirX की चोरी हुआ फंड लौटाने के लिए हैकर को 192 करोड़ रुपये की पेशकश
  2. Vivo V40 सीरीज 5,500mAh बैटरी के साथ जल्द होगी भारत में लॉन्च! जानें स्पेसिफिकेशन्स
  3. Xiaomi SU7 Ultra: 350 Kmph की टॉप स्पीड वाली शाओमी इलेक्ट्रिक स्पोर्ट्स कार हुई पेश, जानें खासियतें
  4. Oppo Find X8 के डिस्प्ले, कैमरा और ऑपरेटिंग सिस्टम की डिटेल्स लॉन्च से पहले हुई लीक
  5. Motorola Edge 50 Neo में हो सकता है 6.4 इंच pOLED डिस्प्ले
  6. Samsung Galaxy M55s स्मार्टफोन 8GB रैम और इस चिपसेट के साथ होगा लॉन्च! सामने आया बेंचमार्क स्कोर
  7. Xiaomi 15 Pro में मिलेगी 6000mAh बैटरी! चार्जिंग स्पीड की डिटेल्स भी हुई लीक
  8. Bajaj मोटरसाइकिल अब Flipkart पर खरीद पाएंगे, मिलेगा अलग से डिस्काउंट
  9. Redmi Pad Pro 5G लॉन्‍च होगा 29 जुलाई को, मिलेगी 10000mAh बैटरी, जानें बाकी डिटेल
  10. अमेरिकी चुनाव में बाइडन के हटने से झूमा बिटकॉइन, प्राइस 68,000 डॉलर से पार
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »