Amazon, Microsoft सरकार को हर साल लगा रहीं 3000 करोड़ रुपये का चूना- COAI

एसोसिएशन का कहना है कि इसके कारण सरकार, और टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर्स को हर साल लगभग 3000 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है।

Amazon, Microsoft सरकार को हर साल लगा रहीं 3000 करोड़ रुपये का चूना- COAI

Amazon, Microsoft जैसे टेक दिग्गजों के खिलाफ शिकायत दर्ज

ख़ास बातें
  • SMS के लिए Whatsapp, Telegram जैसे ऐप्स का इस्तेमाल
  • सेल्युलर ऑपरेटर एसोसिएशन ने आपत्ति जताई
  • वॉट्सऐप और टेलीग्राम को अवैध प्लेटफॉर्म घोषित करने की मांग
विज्ञापन
ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म Amazon समेत टेक दिग्गज Microsoft को लेकर भारत के सेल्युलर ऑपरेटर एसोसिएशन ने आपत्ति जताई है। दरअसल, कुछ समय पहले तक Amazon के डिलीवरी अपडेट्स मोबाइल फोन पर SMS के जरिए प्राप्त होते थे, लेकिन अब कंपनियां इसके लिए Whatsapp, Telegram जैसे ऐप्स का इस्तेमाल कर रही हैं जो कि नियमों के विरुद्ध बताया गया है, और देश की सुरक्षा के लिए भी खतरा बताया गया है। आइए जानते हैं पूरा मामला। 

सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (COAI) ने टेलीकॉम सेक्रेटरी नीरज मित्तल को एक पत्र लिखकर Amazon, Microsoft जैसे टेक दिग्गजों के खिलाफ शिकायत दर्ज की है कि ये कंपनियां अवैध तरीके से कस्टमर्स तक डिलीवरी अपडेट पहुंचा रही हैं। पहले जो अपडेट SMS के जरिए आता था, अब वह Whatsapp और Telegram के जरिए भेजा जा रहा है, जो कि अवैध तरीका है। सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया Airtel, Reliance Jio और Vodafone-Idea से मिलकर बना है। TOI की रिपोर्ट के अनुसार, ET ने एसोसिएशन द्वारा लिखा गया 31 अक्टूबर का पत्र देखा है।  

एसोसिएशन का कहना है कि इसके कारण सरकार, और टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर्स को हर साल लगभग 3000 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है। एसोसिएशन ने कहा है कि ये कंपनियां एसएमएस भेजने के लिए कानूनी रास्ते के इस्तेमाल से बच रही हैं। यह लाइसेंसिंग व सेफ्टी नियमों का उल्लंघन है जिससे सरकार को रिवेन्यु का नुकसान हो रहा है। साथ ही कहा गया है कि इससे राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा पैदा हो सकता है। 

रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल यानी 2022-2023 में इस तरह के कमर्शियल एसएमएस से होने वाला रिवेन्यु 2500 करोड़ रुपये था। अगर कंपनियां वॉट्सऐप और टेलीग्राम से डिलीवरी अपडेट मैसेज भेजने लगीं तो टेलीकॉम ऑपरेटर्स को इससे बड़ा नुकसान होगा। पत्र में एसोसिएशन ने मांग की है कि कमर्शिअल मैसेज भेजने के लिए वॉट्सऐप और टेलीग्राम को अवैध प्लेटफॉर्म घोषित किया जाए। भारत में इस तरह के मैसेज पर 0.13 रुपये चार्ज लगता है। जबकि ग्लोबल मैसेज पर 4 से 4.5 रुपये प्रति अलर्ट का चार्ज लगता है। एसोसिएशन के अनुसार कंपनियां इसी लागत से बचना चाहती हैं। 
 
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

ये भी पढ़े: COAI, Amazon, Microsoft, COAI Reliance Jio, Airtel, Vodafon idea
हेमन्त कुमार

हेमन्त कुमार Gadgets 360 में सीनियर सब-एडिटर हैं और विभिन्न प्रकार के ...और भी

संबंधित ख़बरें

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. फ्लैगशिप कैमरा फीचर्स के साथ आएगा OnePlus का अपकमिंग फ्लिप फोन! Samsung, Motorola को देगा टक्कर?
  2. Itel Super Guru 4G फीचर फोन YouTube और UPI सपोर्ट के साथ भारत में हुआ लॉन्च, कीमत 1,799 रुपये
  3. AI Girlfriend: कौन होती है ये वर्चुअल गर्लफ्रेंड? कितनी बड़ी है AI-Dating की दुनिया? जानें सब कुछ...
  4. Nothing Ear, Nothing Ear A TWS ईयरफोन हुए 45dB ANC के साथ लॉन्च, जानें कीमत और फीचर्स
  5. 6000mAh बैटरी के साथ Samsung Galaxy M35 जल्‍द होगा भारत में लॉन्‍च, सपोर्ट पेज लाइव!
  6. Redmi 13 5G की जानकारी सामने आई, भारत में जल्द होगा लॉन्च
  7. Google Lay Off 2024: गूगल फिर निकालेगी कर्मचारी, इन विभागों पर होगा असर
  8. HMD ने लॉन्‍च किया ‘बोरिंग’ फोन, सिर्फ कॉल और टेक्‍स्‍ट कर पाएंगे, इंटरनेट का नहीं है सपोर्ट
  9. Article 370 OTT Release date : ‘धारा 370’ पर बनी यामी गौतम की फ‍िल्‍म कल हो रही इस ओटीटी पर रिलीज, जानें डिटेल
  10. Xiaomi 15 सीरीज पर काम शुरू! इस महीने होगी इंटरनल टेस्टिंग
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »