• होम
  • news 461
  • ख़बरें
  • Xiaomi की 67 करोड़ डॉलर के एसेट्स जब्त करने के खिलाफ अपील कोर्ट ने की खारिज

Xiaomi की 67 करोड़ डॉलर के एसेट्स जब्त करने के खिलाफ अपील कोर्ट ने की खारिज

Xiaomi ने किसी गड़बड़ी से इनकार किया है। कंपनी ने एसेट्स को जब्त करने के खिलाफ कर्नाटक हाई कोर्ट में चुनौती दी थी

Xiaomi की 67 करोड़ डॉलर के एसेट्स जब्त करने के खिलाफ अपील कोर्ट ने की खारिज

पिछले सप्ताह एक अपीलेट अथॉरिटी ने एसेट्स जब्त करने की ED को अनुमति दी थी

ख़ास बातें
  • कंपनी ने एसेट्स जब्त करने के खिलाफ कर्नाटक हाई कोर्ट में अपील की थी
  • कोर्ट ने कंपनी को तुरंत राहत देने से इनकार कर दिया
  • रॉयल्टी की मद में कंपनी पर गलत तरीके से विदेश रकम भेजने का आरोप है
विज्ञापन
चाइनीज स्मार्टफोन कंपनी Xiaomi की लगभग 67.6 करोड़ डॉलर के एसेट्स को जब्त करने के खिलाफ अपील को कर्नाटक हाई कोर्ट ने खारिज कर दिया है। एन्फोर्समेंट डायरेक्टरेट (ED) ने ये एसेट्स जब्त किए हैं। ED का आरोप है कि कंपनी ने रॉयल्टी के भुगतान की मद में विदेश में गैर कानूनी तरीके से रकम ट्रांसफर की थी। पिछले सप्ताह एक अपीलेट अथॉरिटी ने एसेट्स जब्त करने की ED को अनुमति दी थी।

हालांकि,  Xiaomi ने किसी गड़बड़ी से इनकार किया है। कंपनी ने एसेट्स को जब्त करने को कर्नाटक हाई कोर्ट में चुनौती दी थी। Xiaomi ने कहा था कि उसकी कानूनी स्थिति के अनुसार यह पूरी तरह गलत है और इससे उसके बिजनेस पर असर पड़ा है। कंपनी के एडवोकेट ने कोर्ट से एसेट्स को वापस दिलाने की मांग की थी। हालांकि, कोर्ट ने कहा कि कंपनी को पहले जब्त किए गए एसेट्स के समान रकम की बैंक गारंटी उपलब्ध करानी होगी। इस पर Xiaomi का कहना था कि पूरी रकम की बैंक गारंटी देने से कंपनी के लिए बिजनेस करना मुश्किल हो जाएगा। Reuters की रिपोर्ट के अनुसार, इस मामले में जज ने तुरंत कोई राहत देने से मना कर दिया। इस मामले की अगली सुनवाई 14 अक्टूबर को होगी। 

इस बारे में Xiaomi से प्रतिक्रिया नहीं मिली है। देश के स्मार्टफोन मार्केट में Xiaomi लगभग 18 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ टॉप कंपनियों में शामिल है। ED ने बताया था कि यह देश में जब्त की गई अब तक की सबसे बड़ी रकम है। ED ने FEMA के तहत लगभग चार महीने पहले रकम को जब्त करने का ऑर्डर जारी किया था और इसके बाद इसे स्वीकृति के लिए सक्षम अथॉरिटी के पास भेजा था। Xiaomi की देश में यूनिट के खिलाफ यह ऑर्डर FEMA के सेक्शन 37A के तहत जारी किया गया था। इस बारे में ED ने बताया, "अथॉरिटी ने 5,551.27 करोड़ रुपये को जब्त करने की पुष्टि करते हुए कहा है कि ED की जांच यह यह सही पाया गया है कि कंपनी ने यह रकम देश से बाहर अनधिकृत तरीके से ट्रांसफर की थी और इसे ग्रुप की एटिटी की ओर से FEMA के सेक्शन 4 का उल्लंघन करते हुए विदेश में रखा था।" 

चीन के बीच लगभग दो वर्ष पहले बॉर्डर पर तनाव के बाद बहुत सी चाइनीज कंपनियों को भारत में बिजनेस करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ा है। केंद्र सरकार ने सुरक्षा के कारणों से टिकटॉक सहित 300 से अधिक चाइनीज ऐप्स पर भी बैन लगा दिया था। पिछले कुछ महीनों में बहुत सी चाइनीज फर्मों के खिलाफ सरकारी एजेंसियों ने कार्रवाई की है। 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

ये भी पढ़े: Smartphone, ED, Court, Xiaomi, Market, Royalty, China, Ban, Apps, Government, Payment
आकाश आनंद

Gadgets 360 में आकाश आनंद डिप्टी न्यूज एडिटर हैं। उनके पास प्रमुख ...और भी

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. MI Vs CSK Live: मुंबई इंडियंस Vs चेन्नई सुपर किंग्स का IPL मैच कुछ देर में, देखें फ्री!
  2. Black Shark Ring सिंगल चार्ज में चलेगी 180 दिन! टीजर आउट
  3. WhatsApp में AI की एंट्री, मिलेगा हर सवाल का जवाब! ऐसे करें इस्तेमाल
  4. LSG Vs KKR Live: लखनऊ और कोलकाता के बीच IPL मैच कुछ ही देर में, यहां देखें फ्री!
  5. आ..छी..! बेबी तारों को भी आती है ‘छींक’, नई रिसर्च में वैज्ञानिकों ने किया दावा
  6. Poco F6 होगा रीब्रांडेड Redmi Turbo 3, भारत में सबसे पहले होगा लॉन्च! यहां हुआ खुलासा
  7. 84 दिनों तक 126GB डेटा, अनलिमिटिड 5G, कॉलिंग, Free Apps वाला Airtel का धांसू प्लान!
  8. 33 देशों में 30 हजार कर्मचारियों वाली यह कंपनी दे रही फुल टाइम वर्क फ्रॉम होम!
  9. पैरेंट्स सावधान! वीडियो गेम खेलने वाले बच्चों में आ सकती है दिमागी समस्या
  10. Redmi Pad Pro 5G सेल्युलर कॉलिंग फीचर के साथ भारत में जल्द होगा लॉन्च!
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »