चीन से आने वाले पैसेंजर्स के लिए नेगेटिव कोविड टेस्ट जरूरी करेगी सरकार

इस महामारी की शुरुआत चीन से मानी जाती है। चीन में कोरोना के मामले दोबारा तेजी से बढ़ रहे हैं और इसके BF.7 वेरिएंट के कारण वहां हालात बिगड़ रहे हैं

चीन से आने वाले पैसेंजर्स के लिए नेगेटिव कोविड टेस्ट जरूरी करेगी सरकार

हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगले महीने से देश में कोरोना के मामले बढ़ सकते हैं

ख़ास बातें
  • यह नियम अगले सप्ताह से लागू होने की संभावना है
  • इस महामारी की शुरुआत चीन से मानी जाती है
  • चीन में कोरोना के मामले दोबारा तेजी से बढ़ रहे हैं
विज्ञापन
पिछले कुछ सप्ताह में चीन में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ने के कारण केंद्र सरकार ने सतर्कता के उपाय शुरू कर दिए हैं। इसी कड़ी में चीन से आने वाले यात्रियों के लिए नेगेटिव RT-PCR को अनिवार्य किया जा सकता है। यह नियम अगले सप्ताह से लागू होने की संभावना है। इसके अलावा कुछ अन्य देशों से आने वाले वाले यात्रियों के लिए 72 घंटे पहले के RT-PCR को भी अनिवार्य किया जा सकता है। 

इस मामले की जानकारी रखने वाले एक सूत्र ने बताया कि चीन, जापान, हांगकांग, दक्षिण कोरिया, थाईलैंड और सिंगापुर से आने वाले यात्रियों के लिए नेगेटिव कोविड टेस्ट को अनिवार्य करने की संभावना है। हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगले महीने से देश में कोरोना के मामले बढ़ सकते हैं। हालांकि, हेल्थ मिनिस्ट्री ने कहा है कि कोरोना के मामले बढ़ने के बावजूद हॉस्पिटल में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या कम रहेगी। पिछले दो दिनों में विदेश से भारत आने वाले यात्रियों में से 6,000 का कोविड टेस्ट किया गया है और इसमें 39 लोग इस वायरस से संक्रमित मिले हैं। 

इस महामारी की शुरुआत चीन से मानी जाती है। चीन में कोरोना के मामले दोबारा तेजी से बढ़ रहे हैं और इसके BF.7 वेरिएंट के कारण वहां हालात बिगड़ रहे हैं। हॉस्पिटल्स में बड़ी संख्या में मरीज भर्ती हैं और स्वास्थ्य व्‍यवस्‍थाएं चरमरा गई हैं। चीन से आ रही रिपोर्ट्स ने पूरी दुनिया को चौंका दिया है। इस सप्ताह चीन के एक हॉस्पिटल का वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया गया था, जिसमें देखा जा सकता है कि एक डॉक्‍टर काम के बोझ के कारण इतना थक गया कि अपनी कुर्सी पर ही गिर गया। विशेषज्ञों का दावा है कि अगले 90 दिनों में चीन की 60 फीसदी जनसंख्या और पूरी दुनिया की 10 फीसदी जनसंख्या को यह संक्रमण हो सकता है। 

चीन में यह स्थिति तब है, जब यह देश ‘जीरो-कोविड पॉलिसी' को फॉलो करता है। इसके तहत कोरोना के मामलों में तेजी आने पर लॉकडाउन लगा दिया जाता है। महामारी विशेषज्ञ एरिक फेगल-डिंग ने चीन में कोरोना की खराब स्थिति के लिए थर्मोन्यूक्लियर बैड शब्‍द का इस्‍तेमाल किया है। इसका मतलब है कि चीन में हॉस्पिटल्स पर बहुत अधिक बोझ हैं और वे इसे संभाल नहीं पा रहे। 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

आकाश आनंद

Gadgets 360 में आकाश आनंद डिप्टी न्यूज एडिटर हैं। उनके पास प्रमुख ...और भी

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. पैरेंट्स सावधान! वीडियो गेम खेलने वाले बच्चों में आ सकती है दिमागी समस्या
  2. Redmi Pad Pro 5G सेल्युलर कॉलिंग फीचर के साथ भारत में जल्द होगा लॉन्च!
  3. Motorola Edge 50 Ultra में होगी 12GB रैम, 125W फास्ट चार्जिंग! लॉन्च से पहले स्पेक्स लीक
  4. Nothing Ear और Nothing Ear A के रेंडर्स और प्राइस लीक, 18 अप्रैल को है लॉन्च, जानें सबकुछ
  5. RR vs PBKS Live: राजस्थान रॉयल्स बनाम पंजाब किंग्स IPL मैच आज, यहां देखें फ्री!
  6. Latest OTT Release This Week: अमर सिंह चमकीला, फालआउट, गामी जैसी फिल्में इस हफ्ते यहां देखें
  7. Google Pixel 8a लॉन्च से पहले चार आकर्षक रंगों में आया नजर, फोटो लीक!
  8. Vivo T3x 5G फोन 8GB रैम, 6000mAh बैटरी के साथ 17 अप्रैल को होगा लॉन्च, जानें सबकुछ
  9. Upcoming Smartphones April 2024: इस हफ्ते लॉन्च होंगे Realme P1, Moto G64, Vivo T3x जैसे धांसू स्मार्टफोन
  10. TCS Hiring: टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) ने की 10 हजार से ज्यादा फ्रेशर की भर्ती
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »