• होम
  • चंद्रयान
  • ख़बरें
  • ISRO अगले साल जून में लॉन्‍च करेगा चंद्रयान 3 मिशन, जानें इससे जुड़ी सभी जरूरी बातें

ISRO अगले साल जून में लॉन्‍च करेगा चंद्रयान-3 मिशन, जानें इससे जुड़ी सभी जरूरी बातें

Chandrayaan 3 : इसरो प्रमुख एस. सोमनाथ ने कहा है कि ‘चंद्रयान-3’ (सी-3) मिशन को मार्क-3 लॉन्‍च वीकल के जरिए अगले साल जून में लॉन्‍च किया जाएगा।

ISRO अगले साल जून में लॉन्‍च करेगा चंद्रयान-3 मिशन, जानें इससे जुड़ी सभी जरूरी बातें

Chandrayaan 3 : इसरो के मुताबिक, उसने चंद्रयान-3 में कई बदलाव किए हैं। किसी भी इक्विपमेंट के फेल होने की सूरत में बाकी इक्विपमेंट इसकी भरपाई करेंगे।

ख़ास बातें
  • यह चंद्रमा की सतह पर खोज को लेकर महत्‍वपूर्ण अभियान है
  • अगले साल जून में लॉन्‍च किया जाएगा मिशन
  • गगनयान मिशन को लेकर भी चल रही है तैयारी
विज्ञापन
भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो (ISRO) अपने तीसरे मून मिशन को लॉन्‍च करने की तैयारी कर रही है। अगले साल जून में चंद्रयान-3 (Chandrayaan-3) को लॉन्‍च किया जाएगा। यह चंद्रमा की सतह पर खोज को लेकर महत्‍वपूर्ण अभियान है। इसरो अगले साल की शुरुआत में देश के पहले मानव अंतरिक्ष यान ‘गगनयान' के लिए ‘एबॉर्ट मिशन' की पहली टेस्‍ट फ्लाइट की भी तैयारी कर रहा है। इसरो प्रमुख एस. सोमनाथ ने कहा है कि ‘चंद्रयान-3' (सी-3) मिशन को मार्क-3 लॉन्‍च वीकल के जरिए अगले साल जून में लॉन्‍च किया जाएगा। 

गौरतलब है कि सितंबर 2019 में चंद्रयान-2 मिशन के दौरान लैंडर ‘विक्रम' चंद्रमा की सतह पर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था, जिसके बाद चांद पर यान उतारने की भारत की पहली कोशिश नाकाम रही थी। इसरो प्रमुख ने कहा कि चंद्रयान-3 मिशन तैयार है। यह चंद्रयान-2 की रेप्‍लिका नहीं है। इस यान की इंजीनियरिंग एकदम अलग है। हमने इसे बहुत मजबूत बनाया है, ताकि पहले जैसी परेशानियां सामने ना आएं। 

इसरो के मुताबिक, उसने चंद्रयान-3 में कई बदलाव किए हैं। किसी भी इक्विपमेंट के फेल होने की सूरत में बाकी इक्विपमेंट इसकी भरपाई करेंगे। चंद्रयान-3 के लिए जिस रोवर को तैयार किया गया है, वह यात्रा की ऊंचाई को बेहतर तरीके से कैलकुलेट कर सकता था है साथ ही ऐसी जगहों से खुद को बचा सकता है, जहां खतरा होा। 

‘गगनयान' मिशन के बारे में इसरो प्रमुख ने कहा कि इसरो इंसान को अंतरिक्ष में ले जाने से पहले 6 परीक्षण उड़ानें करेगा। उन्होंने कहा कि ‘गगनयान' मिशन की तैयारी ‘‘धीमी और स्थिर गति से चल रही है।'' इस मिशन के तहत यह भी परखा जाएगा कि इसरो के पास बुरे हालात में चालक दल को बचाने की क्षमता है या नहीं। एबॉर्ट मिशन और मानवरहित परीक्षण उड़ान की सफलता के बाद भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी साल 2024 के आखिर तक इंसान को अंतरिक्ष में भेज सकती है। 

इस साल अगस्‍त में इसरो ने चंद्रयान-3 की पहली झलक दिखाई थी। चंद्रयान-3 को साल 2020 के आखिर में लॉन्च किया जाना था, लेकिन कोरोना महामारी की वजह से इस मिशन में देरी हुई। यह एक लैंडर-स्‍पेसिफ‍िक मिशन है, जिसमें कोई ऑर्बिटर नहीं होगा। ऐसा इसलिए, क्‍योंकि चंद्रयान -2 का पहला ऑर्बिटर सही तरीके से काम कर रहा है। चंद्रयान-3 मिशन इसलिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह चंद्रमा पर उतरने की इसरों की दूसरी कोशिश होगा और इंटरप्लेनेटरी मिशन की राह को बेहतर बनाएगा। 

 

Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

प्रेम त्रिपाठी

प्रेम त्रिपाठी Gadgets 360 में चीफ सब एडिटर हैं। 10 साल प्रिंट मीडिया ...और भी

संबंधित ख़बरें

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. Honor Magic V Flip में हो सकता है बड़ा कवर डिस्प्ले, सर्कुलर कैमरा आइलैंड
  2. Hero MotoCorp जल्द लॉन्च करेगी नए इलेक्ट्रिक स्कूटर
  3. Xiaomi ने लॉन्च किया HDR सपोर्ट और 5-इंच डिस्प्ले के साथ आने वाला डोरबेल कैमरा, जानें कीमत
  4. Apple के iPhone 16 Pro Max में हो सकता है 48 मेगापिक्सल अपग्रेडेड मेन कैमरा
  5. Paytm में हो सकती है छंटनी, सेल्स में गिरावट जारी
  6. Vivo S19, S19 Pro कैमरा सेटअप का हुआ खुलासा, जानें सबकुछ
  7. Sonos Ace: इस वायरलेस हेडफोन में है 30 घंटे की बैटरी लाइफ और Dolby हेड-ट्रैकिंग फीचर, जानें कीमत
  8. सूर्यग्रहण बहुत दूर है! उससे पहले आसमान में दिखेंगे 6 ग्रह, जानें डिटेल
  9. Xiaomi के नए MIJIA Floor Fan Pro को बॉक्स में कर सकते हैं बंद, इस कीमत में हुआ लॉन्च
  10. क्रिप्टो मार्केट में मामूली गिरावट, बिटकॉइन का प्राइस 72,000 डॉलर से ज्यादा
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »