चीन ने WhatsApp और Threads को Apple App Store से हटाया, जानें कारण

इस कार्रवाई के समय पर ध्यान देने की जरूरत है, जब अमेरिका में चीनी स्वामित्व वाले ऐप्स को कड़ी जांच झेलनी पड़ रही है।

चीन ने WhatsApp और Threads को Apple App Store से हटाया, जानें कारण
ख़ास बातें
  • चीन ने राष्ट्रीय सुरक्षा चिंताओं का हवाला देते हुए ऐप्स को हटाया
  • Apple ने स्थानीय कानूनों का पालन करने की अपनी प्रतिबद्धता पर जोर दिया
  • Meta ने कहा कि बदलाव केवल चीन तक सीमित है
विज्ञापन
चीन में Apple के ऐप स्टोर में एक बड़ा और हैरान करने वाला बदलाव देखा गया है, क्योंकि Meta के स्वामित्व वाले WhatsApp और Threads को स्टोर से हटा दिया गया है। यह निर्णय राष्ट्रीय सुरक्षा चिंताओं का हवाला देते हुए चीन के टॉप इंटरनेट रेगुलेटर, साइबरस्पेस एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ चाइना (CAC) ने लिया है। जवाब में, Apple ने उन देशों में स्थानीय कानूनों का पालन करने की अपनी प्रतिबद्धता पर जोर दिया, जहां वह काम करता है, भले ही असहमति हो। 

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट (via NDTV) के मुताबिक, चीन में Apple App Store से WhatsApp और Threads को हटा दिया गया है। हैरानी इस बात की है कि देश के इंटरनेट रेगुलेटर ने दोनों ऐप्स को राष्ट्रीय सुरक्षा चिंताओं का हवाला देते हुए हटाया है। इस बदलाव के बाद टेक दिग्गज ने स्पष्ट किया कि यह निष्कासन केवल चीन पर लागू होता है, जबकि ऐप्स अन्य क्षेत्रों में डाउनलोड के लिए उपलब्ध रहेंगे।

चीन पहले भी विदेशी डेवलपर्स को लेकर सख्त रहा है, जहां वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (VPN) के उपयोग के बिना विभिन्न विदेशी ऐप्स और प्लेटफार्मों को एक्सेस करना प्रतिबंधित है। इसके बावजूद, समझदार यूजर्स ऐप्पल के ऐप स्टोर के जरिए प्रतिबंधित प्लेटफार्मों तक पहुंचने के कई अन्य तरीके अकसर ढूंढ ही लेते हैं।

Apple के लिए चीन एक महत्वपूर्ण मार्केट है, हालांकि सेंसरशिप और राष्ट्रीय सुरक्षा जैसे मुद्दों ने वहां इसके संचालन को लगातार चुनौती दी है। WhatsApp और Threads को हटाने का यह कदम टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में बीजिंग और वाशिंगटन के बीच चल रहे तनाव की ओर इशारा करता है।

इस कार्रवाई के समय पर ध्यान देने की जरूरत है, जब अमेरिका में चीनी स्वामित्व वाले ऐप्स को कड़ी जांच झेलनी पड़ रही है। चीन ने अमेरिका द्वारा उसकी तकनीकी प्रगति को बाधित करने के प्रयासों के खिलाफ लगातार कदम उठाए हैं और इस तरह की कार्रवाइयों को उसकी आर्थिक उन्नति को रोकने के लिए एक व्यापक रणनीति का हिस्सा बताया है।
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

नितेश पपनोई Nitesh has almost seven years of experience in news writing and reviewing tech products like smartphones, headphones, and smartwatches. At Gadgets 360, he is covering all ...और भी
Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. Realme GT 6 AI फीचर्स के साथ जल्द हो सकता है भारत में लॉन्च 
  2. WhatsApp Favourites: अब अपने पसंदीदा कॉन्टैक्ट की चैट को खोजना नहीं पड़ेगा, ऐसे बनाएं अपनी फेवरेट लिस्ट
  3. Vivo S19, S19 Pro स्मार्टफोन 50MP सेल्फी कैमरा, 12GB रैम के साथ हुए लॉन्च, जानें कीमत
  4. 12GB रैम, 5,000mAh बैटरी वाला नया Oppo स्मार्टफोन जल्द होगा लॉन्च! मिला सर्टिफिकेशन
  5. Jio Finance App : Paytm, Phonepe को चुनौती! ‘जियो फाइनेंस ऐप’ का बीटा वर्जन लॉन्‍च, UPI पेमेंट भी कर पाएंगे
  6. Honor 200 सीरीज आई Amazon पर नजर, जल्द होगी भारत में लॉन्च
  7. OnePlus लाई 10000mAh का पावरबैंक ‘Pouch’, एकसाथ चार्ज होंगे 3 फोन, जानें प्राइस
  8. Xiaomi Watch S सीरीज आई 3C सर्टिफिकेशन पर नजर, 10W चार्जिंग का करेगी सपोर्ट
  9. Solar Storm Alert! सूर्य में फ‍िर हुआ धमाका, पृथ्‍वी पर नए सौर तूफान का खतरा
  10. What is RudraM-II Missile? दुनिया को चौंका रही भारत की नई ‘रुद्रम’ मिसाइल! जानें इसके बारे में
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »