Google क्रोम यूजर्स पर साइबर अटैक का खतरा, सरकार ने दी चेतावनी

98.0.4758.80 से पहले के Google क्रोम वर्जन इन वल्नरबिलिटी से प्रभावित हैं।

Google क्रोम यूजर्स पर साइबर अटैक का खतरा, सरकार ने दी चेतावनी

इस महीने की शुरुआत में गूगल (Google) ने क्रोम 98 में कई वल्नरबिलिटी को ठीक किया था।

ख़ास बातें
  • अपनी एडवाइजरी में CERT-In ने लिखा है कि गूगल क्रोम में कई वल्नरबिलिटी हैं
  • यह किसी अटैकर को एक टारगेटेड सिस्टम पर अनियंत्रित कोड भेजने दे सकती हैं
  • CERT-In ने इस मामले की गंभीरता को ‘हाई’ कैटिगरी में रखा है
विज्ञापन
Google क्रोम ब्राउजर में मौजूद कई कमजोरियों (vulnerabilities) के कारण भारत सरकार ने यूजर्स को साइबर अटैक की चपेट में आने की चेतावनी दी है। इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की इंडियन कंप्यूटर इमरजेंसी रेस्पांस टीम (CERT-In) ने टारगेटेड अटैक्‍स से बचने के लिए यूजर्स को क्रोम ब्राउजर को अपडेट करने की सलाह दी है। कहा है कि हैकर अनियंत्रित (arbitrary) कोड का इस्‍तेमाल करके सिस्टम तक पहुंच प्राप्त कर सकता है। इस महीने की शुरुआत में गूगल (Google) ने क्रोम 98 में वल्नरबिलिटी को ठीक किया था। CERT-In ने इस मामले की गंभीरता को ‘हाई' कैटिगरी में रखा है। 

अपनी एडवाइजरी में CERT-In ने लिखा है कि गूगल क्रोम में कई वल्नरबिलिटी बताई गई हैं। यह किसी अटैकर को एक टारगेटेड सिस्टम पर अनियंत्रित कोड भेजने दे सकती हैं। एजेंसी ने कहा है कि 98.0.4758.80 से पहले के Google क्रोम वर्जन इन वल्नरबिलिटी से प्रभावित हैं।

एडवाइजरी में बताया गया है कि सेफ ब्राउजिंग, रीडर मोड, वेब सर्च, थंबनेल टैब, स्ट्रिप, स्क्रीन कैप्चर, विंडो डायलॉग, पेमेंट्स, एक्सटेंशन और एक्सेसिबिलिटी में मुफ्त में यूज की वजह से Google क्रोम में ये वल्नरबिलिटी मौजूद हैं। इस महीने की शुरुआत में Google ने Windows, macOS और Linux यूजर्स के लिए क्रोम 98 रिलीज करने की की घोषणा की थी। कंपनी ने कहा कि अपडेट में कुल 27 सिक्‍योरिटी फ‍िक्‍स शामिल हैं।

आखिरी रिलीज में Google ने बताया था कि बग डिटेल्‍स और लिंक तक पहुंच को तब तक प्रतिबंधित रखा जा सकता है, जब तक कि ज्‍यादातर यूजर्स अपने सिस्टम पर क्रोम ब्राउजर को अपडेट नहीं करते।

Google Chrome को बैकग्राउंड में ऑटोमैटिक अपडेट मिलते हैं। हालांकि यूजर Chrome और उसके बाद About Google Chrome में जाकर अपडेट को मैन्युअली डाउनलोड कर सकते हैं। एक बार अपडेट डाउनलोड होने के बाद ब्राउजर को फ‍िर से लॉन्‍च करना होगा। इसके बाद ही लेटेस्‍ट वर्जन पूरी तरह इंस्‍टॉल होगा। 

गूगल की चिंताएं यहीं तक नहीं हैं। बीते महीने खबर आई थी कि कंपनी के CEO सुंदर पिचाई से एक मामले में पूछताछ की जा सकती है। अमेरिका के कैलिफोर्निया के एक संघीय जज ने यह फैसला सुनाया था। वादी ने आरोप लगाया था कि उनके इंटरनेट इस्‍तेमाल को गूगल ने अवैध तरीके से ‘Incognito' ब्राउजिंग मोड में ट्रैक किया। जून 2020 में दायर किए गए मुकदमे में यूजर ने Google पर आरोप लगाया है। कहा है कि गूगल ने उनके इंटरनेट यूज को ट्रैक किया और उनकी प्राइवेसी पर अवैध रूप से हमला किया। यह सब तब हुआ, जबकि यूजर ने Google क्रोम ब्राउजर को Private मोड में सेट किया था।
 
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. OnePlus जल्द लॉन्च करेगी सस्ते ईयरबड्स Nord Buds 3r, FCC लिस्टिंग में फीचर्स का खुलासा
  2. Vivo S19 सीरीज होगी 30 मई को लॉन्च, यहां जानें क्या कुछ होगा खास
  3. boAt Wave Sigma 3 स्मार्टवॉच भारत में लॉन्च, 1200 से कम कीमत और 7 दिन चलेगी बैटरी
  4. Accordion Google Doodle: गूगल आज डूडल के जरिए सेलिब्रेट कर रहा अकॉर्डियन की सालगिरह
  5. Infinix Note 40 5G फोन 108MP कैमरा, 5000mAh बैटरी, 33W चार्जिंग के साथ लॉन्च, जानें कीमत
  6. OnePlus Ace 3 Pro पर आई नई जानकारी, 4 कैमरों और 100W चार्जिंग के साथ होगा पेश!
  7. Honor Magic V Flip में हो सकता है बड़ा कवर डिस्प्ले, सर्कुलर कैमरा आइलैंड
  8. Hero MotoCorp जल्द लॉन्च करेगी नए इलेक्ट्रिक स्कूटर
  9. Xiaomi ने लॉन्च किया HDR सपोर्ट और 5-इंच डिस्प्ले के साथ आने वाला डोरबेल कैमरा, जानें कीमत
  10. Apple के iPhone 16 Pro Max में हो सकता है 48 मेगापिक्सल अपग्रेडेड मेन कैमरा
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »