• होम
  • विज्ञान
  • ख़बरें
  • जापान का मून मिशन अगले महीने करेगा चांद पर लैंडिंग, क्‍या मिलेगी चंद्रयान 3 जैसी सफलता?

जापान का मून मिशन अगले महीने करेगा चांद पर लैंडिंग, क्‍या मिलेगी चंद्रयान-3 जैसी सफलता?

Japan Moon mission landing : जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी (JAXA) ने इस साल सितंबर महीने में अपना मिशन लॉन्‍च किया था। यह अगले महीने 20 जनवरी को चांद पर लैंड होने की कोशिश करेगा।

जापान का मून मिशन अगले महीने करेगा चांद पर लैंडिंग, क्‍या मिलेगी चंद्रयान-3 जैसी सफलता?

Photo Credit: JAXA

अबतक रूस, अमेरिका, चीन और भारत चांद पर अपने मिशन उतार चुके हैं। (कुछ इस तरह टचडाउन की कोशिश करेगा स्लिम लैंडर।)

ख़ास बातें
  • जापान का मून मिशन अगले महीने करेगा लैंडिंग की कोशिश
  • स्लिम लैंडर को उतारा जाएगा चांद पर
  • कामयाबी मिली तो जापान बन जाएगा दुनिया का 5वां देश
विज्ञापन
Japan Moon mission : भारत के चंद्रयान-3 मिशन (Chandrayaan 3) की सफलता के बाद अब जापान का मून मिशन चंद्रमा पर सफल लैंडिंग की उम्‍मीद लिए तैयार है। जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी (JAXA) ने इस साल सितंबर महीने में अपना मिशन लॉन्‍च किया था। यह अगले महीने 20 जनवरी को चांद पर लैंड होने की कोशिश करेगा। अगर जापान कामयाब होता है तो चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग करने वाला दुनिया का पांचवां देश बन जाएगा। अबतक रूस, अमेरिका, चीन और भारत चांद पर अपने मिशन उतार चुके हैं। 

दिलचस्‍प यह है कि भारतीय स्‍पेस एजेंसी इसराे (ISRO) ने चांद पर पहुंचने में 40 दिन लगाए थे। तब कहा गया था कि हम अमेरिका और रूस जैसे देशों से स्‍लो हैं और चांद पर मिशन लैंड कराने में ज्‍यादा वक्‍त लगा रहे हैं। लेकिन जापानी मिशन तो 4 महीनों से भी ज्‍यादा वक्‍त लेने के बाद चंद्रमा पर लैंड होने की कोशिश करेगा। 

इसकी प्रमुख वजह यह है कि चांद तक पहुंचने के लिए जापान ने जिस SLIM स्‍पेसक्राफ्ट को भेजा है, वह लंबा रास्‍ता तय करेगा। इससे कम ईंधन की खपत होगी। अपनी कुल यात्रा में जापानी स्‍पेसक्राफ्ट करीब एक महीने तक चंद्रमा का चक्‍कर लगाते हुए उसे टटोलेगा। 

सितंबर महीने में जाक्‍सा (JAXA) ने स्लिम स्‍पेसक्राफ्ट (SLIM) को चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग के मकसद से रवाना किया था। स्‍पेसक्राफ्ट को H-2A  नाम के रॉकेट पर सवार होकर भेजा गया था। भारत ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर लैंडिंग करके इतिहास रचा था। वहीं, जापान का मिशन चांद पर शियोली क्रेटर (Shioli Crater) में लैंडिंग की कोशिश करेगा। 
 

भारत के विक्रम लैंडर से हल्‍का है जापान का ‘स्लिम'

SLIM लैंडर की तुलना भारत के विक्रम लैंडर से की जाए, तो यह वजन में बहुत कम है। SLIM लैंडर लगभग 200 किलो का है, जबकि विक्रम लैंडर का वजन 1750 किलो था। 
 
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

प्रेम त्रिपाठी

प्रेम त्रिपाठी Gadgets 360 में चीफ सब एडिटर हैं। 10 साल प्रिंट मीडिया ...और भी

संबंधित ख़बरें

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. Shiba Inu यूजर्स की टेंशन होगी खत्म! तैयार की जा रही है नई सिक्योरिटी लेयर
  2. Oppo Watch X स्मार्टवॉच में मिलती 12 दिन की बैटरी लाइफ और 2GB रैम, इस कीमत में हुई लॉन्च
  3. Motorola के इस फोन को हाथ में लपेट सकते हैं, मोड़कर स्टैंड बना सकते हैं, MWC में दिखा जलवा!
  4. Play Store की फीस न चुकाने पर 10 भारतीय ऐप डिवेलपर्स के खिलाफ एक्शन लेगी Google
  5. भारत में Air Gesture फीचर के साथ लॉन्च होगा Realme Narzo 70 Pro 5G
  6. RBI की सख्ती के बाद Paytm कर रही पेमेंट्स बैंक यूनिट से किनारा
  7. सेमीकंडक्टर में बड़ी ताकत बनेगा भारत, सरकार ने दी 3 यूनिट्स को मंजूरी
  8. Realme 12+ 5G लॉन्च हुआ 12GB रैम, 5000mAh बैटरी, 67W चार्जिंग के साथ, जानें कीमत
  9. Samsung की अगला Galaxy Unpacked लॉन्च इवेंट पेरिस में आयोजित करने की तैयारी
  10. Infinix Smart 8 Plus फोन 50 मेगापिक्सल कैमरा, 6000mAh बैटरी के साथ लॉन्च, जानें कीमत
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »