Apple को लगा झटका, चीन में बढ़ा iPhone पर बैन का दायरा

इससे पहले सितंबर में चीन के कुछ मंत्रालयों और सरकारी निकायों ने अपने एंप्लॉयीज को वर्कप्लेस पर आईफोन्स नहीं लाने को कहा था

Apple को लगा झटका, चीन में बढ़ा iPhone पर बैन का दायरा

कंपनी के लिए चीन एक बड़ा मार्केट है

ख़ास बातें
  • एपल के लिए चीन एक बड़ा मार्केट है
  • आईफोन्स की मैन्युफैक्चरिंग का चीन हब भी है
  • एपल ने भारत में iPhone की मैन्युफैक्चरिंग और एक्सपोर्ट बढ़ाया है
विज्ञापन
अमेरिकी डिवाइसेज मेकर Apple के लिए चीन में मुश्किलें बढ़ गई हैं। चीन में बहुत सी एजेंसियों और सरकार की फंडिंग वाली कंपनियों ने अपने स्टाफ से iPhones और अन्य विदेशी डिवाइसेज को वर्कप्लेस पर नहीं लाने को कहा है। एपल के लिए चीन एक बड़ा मार्केट है और इसके आईफोन्स की मैन्युफैक्चरिंग का हब भी है। 

पिछले एक दशक से अधिक से चीन विदेशी टेक्नोलॉजीज पर निर्भरता कम करने की कोशिश कर रहा है। चीन की सरकार से जुड़ी कंपनियों को लोकल सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करने और सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए कहा गया है। Reuters ने एक मीडिया रिपोर्ट के हवाले से बताया है कि पिछले एक महीने में चीन के कम से कम आठ प्रांतों में कई सरकारी फर्मों और विभागों ने अपने स्टाफ को लोकल ब्रांड्स के डिवाइसेज का इस्तेमाल करने का निर्देश दिया है। इस बारे में Reuters की ओर से एपल को टिप्पणी के लिए भेजे गए निवेदन का उत्तर नहीं मिला। 

इससे पहले सितंबर में चीन के कुछ मंत्रालयों और सरकारी निकायों ने अपने एंप्लॉयीज को वर्कप्लेस पर आईफोन्स नहीं लाने को कहा था। एपल भी चीन में आईफोन और अन्य डिवाइसेज की मैन्युफैक्चरिंग को घटाने की तैयारी कर रही है। हाल ही में चीन के Pinduoduo और Taobao जैसे ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म्स ने एपल की नई आईफोन 15 सीरीज पर भारी डिस्काउंट दिया था। इस सीरीज के स्मार्टफोन्स को इनके रिटेल प्राइस से CNY 900 (लगभग 10,229 रुपये) तक कम पर बेचा जा रहा था। एनालिस्ट्स का कहना है कि चान में आईफोन 15 की बिक्री पिछली आईफोन सीरीज की तुलना में कम है। 

एपल की सबसे बड़ी कॉन्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चरर Foxconn को भारत में अपनी फैक्टरी में एक अरब डॉलर का इनवेस्टमेंट करने के लिए स्वीकृति मिल गई है। इससे यह चीन के बाहर एपल के प्रोडक्ट्स के लिए बड़ा मैन्युफैक्चरिंग हब बनाने की दिशा में आगे बढ़ सकेगी। Bloomberg की रिपोर्ट में बताया गया था कि एक अरब डॉलर का इनवेस्टमेंट करने के लिए हरी झंडी मिलने से यह देश में आईफोन की मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ा सकेगी। दुनिया भर में आईफोन की कुल असेंबलिंग में से लगभग 70 प्रतिशत ताइवान की यह कंपनी करती है। पिछले वर्ष कोरोना की वजह से चीन में लगाए गए प्रतिबंधों से फॉक्सकॉन के एपल के प्रोडक्ट्स बनाने वाले प्लांट पर असर पड़ा था। हाल ही में कंपनी ने कर्नाटक में दो प्रोजेक्ट्स में 60 करोड़ डॉलर लगाने की जानकारी दी थी। इन प्लांट्स में आईफोन्स के लिए केसिंग कंपोनेंट्स और चिप मेकिंग इक्विपमेंट बनाए जाएंगे। 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

आकाश आनंद

Gadgets 360 में आकाश आनंद डिप्टी न्यूज एडिटर हैं। उनके पास प्रमुख ...और भी

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

विज्ञापन

#ताज़ा ख़बरें
  1. Boat Airdopes Alpha Deadpool Edition ईयरबड्स लॉन्च, जानें कीमत और फीचर्स
  2. Google से मुकाबला! Meta AI भी हिंदी में आया, फेसबुक, इंस्‍टा, वॉट्सऐप यूजर्स कर पाएंगे इस्‍तेमाल
  3. BMW ने भारत में लॉन्च किया इलेक्ट्रिक स्कूटर CE 04, 14 लाख रुपये से ज्यादा का प्राइस
  4. Apple करेगी धमाका! 2026 तक पहला फोल्‍डेबल iPhone लॉन्‍च करने की तैयारी
  5. HMD Crest सीरीज भारत में होगी 25 जुलाई को लॉन्च, Amazon पर होगी उपलब्ध
  6. WhatsApp का तगड़ा फीचर! मोबाइल नंबर शेयर किए बिना कर पाएंगे चैट
  7. Thomson ने लॉन्‍च किए 6 नए लैपटॉप, सबसे सस्‍ता Rs 14,990 का, जानें डिटेल
  8. OTT Report 2024 : 6 महीनों में ओटीटी पर सबसे ज्‍यादा देखी गई यह वेब सीरीज, देखें पूरी लिस्‍ट
  9. Water on Moon : चीनी वैज्ञानिकों को बड़ी कामयाबी! चंद्रमा से लाए सैंपल में खोजा ‘पानी’
  10. Apple का पहला फोल्डेबल होगा iPhone Flip, यहां जानें सबकुछ
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »