YouTube ने भारत में 17 लाख से ज्यादा वीडियो हटाए, गाइडलाइंस का उल्लंघन था कारण

हाल ही में यूट्यूब ने क्रिएटर्स को फायदा पहुंचाने के लिए YouTube Shorts से अधिक रकम देने का नया तरीका शुरू किया है

YouTube ने भारत में 17 लाख से ज्यादा वीडियो हटाए, गाइडलाइंस का उल्लंघन था कारण

कंपनी अपनी शॉर्ट वीडियो सर्विस पर शॉपिंग से जुड़े फीचर्स ला रही है

ख़ास बातें
  • ग्लोबल लेवल पर कंपनी ने 56 लाख से अधिक वीडियो को हटाया है
  • गाइडलाइंस के उल्लंघन से जुड़े 73.7 करोड़ से अधिक कमेंट्स को हटाया गया है
  • कंपनी गाइडलाइंस का उल्लंघन पकड़ने के लिए मशीन का इस्तेमाल करती है
विज्ञापन
वीडियो शेयरिंग साइट YouTube ने जुलाई-सितंबर तिमाही के दौरान भारत में 17 लाख से ज्यादा वीडियो कंपनी की कम्युनिटी गाइडलाइंस का उल्लंघन करने की वजह से हटाए हैं। इस अवधि में ग्लोबल लेवल पर कंपनी ने 56 लाख से अधिक वीडियो को गाइडलाइंस के उल्लंघन के कारण हटाया है। 

यूट्यूब ने तीसरी तिमाही के लिए कम्युनिटी गाइंडलाइंस रिपोर्ट में बताया है, "मशीन की मदद से पकड़े गए वीडियो में से 36 प्रतिशत को एक भी व्यू मिलने से पहले और 31 प्रतिशत को 1 से 10 व्यू मिलने पर हटा दिया गया था।" इसके अलावा गाइडलाइंस के उल्लंघन से जुड़े 73.7 करोड़ से अधिक कमेंट्स को हटाया गया है। यूट्यूब के डेटा से पता चलता है कि लगभग 99 प्रतिशत कमेंट्स को इस प्लेटफॉर्म के ऑटोमेटेड सिस्टम की ओर से मिली चेतावनी के बाद और बाकी को यूजर्स के आपत्ति जताने पर हटाया गया था। यूट्यूब की मालिक Alphabet है। 

कंपनी ने हाल ही में बताया था कि वह अपनी शॉर्ट वीडियो सर्विस पर शॉपिंग से जुड़े फीचर्स ला रही है। स्लोडाउन के कारण विज्ञापनों में कमी होने की वजह से यूट्यूब रेवेन्यू बढ़ाने के अन्य जरियों की तलाश कर रही है। इस फीचर की अमेरिका में चुनिंदा क्रिएटर्स के साथ टेस्टिंग की जा रही है। इससे ये क्रिएटर्स अपने स्टोर्स से प्रोडक्ट्स को टैग कर सकेंगे। कंपनी का कहना है, "भारत, अमेरिका, ब्राजील और ऑस्ट्रेलिया में व्यूअर्स टैग को देखने के साथ ही इनके साथ इंटरएक्ट भी कर सकते हैं। इस फीचर को अन्य देशों में भी उपलब्ध कराया जाएगा।" 

हाल ही में यूट्यूब ने क्रिएटर्स को फायदा पहुंचाने के लिए YouTube Shorts से अधिक रकम देने का नया तरीका शुरू किया है। इसका उद्देश्य TikTok को टक्कर देना है। कंपनी ने बताया था कि वह Shorts वीडियो फीचर पर ऐडवर्टाइजिंग शुरू करेगी और वीडियो क्रिएटर्स को रेवेन्यू का 45 प्रतिशत देगी। YouTube के अन्य वीडियोज पर ऐड रेवेन्यू का लगभग 55 प्रतिशत डिस्ट्रीब्यूट किया जाता है। TikTok के पास क्रिएटर्स के लिए लगभग एक अरब डॉलर का फंड है। YouTube को पिछले कुछ वर्षों से TikTok से कड़ा मुकाबला मिल रहा है। इस ऐप के पास लगभग एक अरब मंथली यूजर्स हैं। टिकटॉक की टक्कर में लगभग दो वर्ष पहले यूट्यूब ने एक मिनट तक के वीडियो वाला Shorts फीचर शुरू किया था। इसके 1.5 अरब से अधिक मंथली यूजर्स हो गए हैं। 
 
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

आकाश आनंद

Gadgets 360 में आकाश आनंद डिप्टी न्यूज एडिटर हैं। उनके पास प्रमुख ...और भी

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. Google ने भारत के ये 10 ऐप्स प्ले स्टोर से हटाए! जानें वजह
  2. सेमीकंडक्टर मैन्युफैक्चरिंग के लिए भारत का बड़ा प्लान, IT मंत्री ने बताया ब्लू प्रिंट
  3. Infinix Note 40 Pro लॉन्च होगा 12GB रैम, 5000mAh बैटरी, Helio G99 चिपसेट के साथ! यहां आया नजर
  4. Lava Blaze Curve 5G भारत में 8GB रैम, 120Hz कर्व्ड डिस्प्ले के साथ 5 मार्च को होगा लॉन्च, जानें सबकुछ
  5. Shiba Inu यूजर्स की टेंशन होगी खत्म! तैयार की जा रही है नई सिक्योरिटी लेयर
  6. Oppo Watch X स्मार्टवॉच में मिलती 12 दिन की बैटरी लाइफ और 2GB रैम, इस कीमत में हुई लॉन्च
  7. Motorola के इस फोन को हाथ में लपेट सकते हैं, मोड़कर स्टैंड बना सकते हैं, MWC में दिखा जलवा!
  8. Play Store की फीस न चुकाने पर 10 भारतीय ऐप डिवेलपर्स के खिलाफ एक्शन लेगी Google
  9. भारत में Air Gesture फीचर के साथ लॉन्च होगा Realme Narzo 70 Pro 5G
  10. RBI की सख्ती के बाद Paytm कर रही पेमेंट्स बैंक यूनिट से किनारा
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »