• होम
  • electric vehicle
  • ख़बरें
  • Tesla ने की 60 लाख EV की मैन्युफैक्चरिंग, सिर्फ छह महीने में बनी 10 लाख इलेक्ट्रिक कारें

Tesla ने की 60 लाख EV की मैन्युफैक्चरिंग, सिर्फ छह महीने में बनी 10 लाख इलेक्ट्रिक कारें

पिछले कुछ वर्षों से टेस्ला के CEO, Elon Musk ने देश में बिजनेस शुरू करने की कोशिशें की हैं। हालांकि, वह इसके लिए इम्पोर्ट टैक्स में कटौती चाहते हैं

Tesla ने की 60 लाख EV की मैन्युफैक्चरिंग, सिर्फ छह महीने में बनी 10 लाख इलेक्ट्रिक कारें

पिछले वर्ष कंपनी की बिक्री 12 लाख यूनिट्स से अधिक की थी

ख़ास बातें
  • कंपनी ने अपनी पहली इलेक्ट्रिक कार 16 वर्ष पहले लॉन्च की थी
  • इस मार्केट में कंपनी को चीन की BYD से कड़ी टक्कर मिल रही है
  • EV के बड़े मार्केट्स में अमेरिका और चीन शामिल हैं
विज्ञापन
बड़ी इलेक्ट्रिक व्हीकल (EV) कंपनियों में शामिल Tesla ने 60 लाख EV की मैन्युफैक्चरिंग कर ली है। कंपनी ने यह उपलब्धि अपनी पहली इलेक्ट्रिक कार लॉन्च करने के 16 वर्ष बाद हासिल की है। इसने EV की 10 लाख यूनिट्स सिर्फ छह महीनों में बनाई है। टेस्ला को शुरुआती 10 लाख यूनिट्स बनाने में 12 वर्ष लगे थे। 

इलेक्ट्रिक मोबिलिटी में बड़ा बदलाव लाने वाली टेस्ला के मॉडल 3, मॉडल S और मॉडल X की बड़ी संख्या में बिक्री होती है। कंपनी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म X पर एक वीडियो पोस्ट कर इस उपलब्धि की जानकारी दी है। पिछले वर्ष टेस्ला की बिक्री 12 लाख यूनिट्स से अधिक की थी। हाल ही में टेस्ला ने Cybertruck को लॉन्च किया था हालांकि, इस मार्केट में कंपनी को चीन की BYD से कड़ी टक्कर मिल रही है। हाल ही में BYD ने प्लग-इन हाइब्रिड कारों की 70 लाख यूनिट्स की मैन्युफैक्चरिंग तक पहुंची थी। हाल ही में BYD की Seal EV को भारत में लॉन्च किया गया था। इसका प्राइस लगभग 41 लाख रुपये से 53 लाख रुपये (एक्स-शोरूम) के बीच है। इसे तीन वेरिएंट्स - प्रीमियम, डायनैमिक और परफॉर्मेंस में उपलब्ध कराया गया है। देश में Seal के अलावा BYD की Atto 3 और e6 की भी बिक्री की जाती है। 

पिछले कुछ वर्षों से टेस्ला के CEO, Elon Musk ने देश में बिजनेस शुरू करने की कोशिशें की हैं। हालांकि, वह इसके लिए इम्पोर्ट टैक्स में कटौती चाहते हैं। मस्क का मानना है कि देश में व्हीकल्स पर इम्पोर्ट टैक्स बहुत ज्यादा है। टेस्ला के सबसे सस्ते व्हीकल मॉडल 3 का अमेरिका में प्राइस लगभग 38,990 डॉलर का है। पिछले वर्ष मस्क की अमेरिका में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ मीटिंग भी हुई थी। 

EV के बड़े मार्केट्स में अमेरिका और चीन शामिल हैं। हालांकि, इन दोनों देशों के बीच तनाव का असर इनके कारोबार पर भी पड़ रहा है। अमेरिका के इन्फ्लेशन रिडक्शन एक्ट को लेकर चीन ने वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गनाइजेशन ( WTO) में शिकायत की है। चीन का आरोप है कि यह एक्ट भेदभाव वाला है और इससे उचित प्रतिस्पर्धा को नुकसान हो रहा है। इस वर्ष की शुरुआत से अमेरिका में EV खरीदने वालों को 3,750 डॉलर से 7,500 डॉलर के टैक्स क्रेडिट तभी मिलेंगे अगर EV में इस्तेमाल होने वाले महत्वपूर्ण मिनरल्स या अन्य बैटरी कंपोनेंट्स चीन, रूस, उत्तर कोरिया या ईरान से नहीं लिए गए या इनकी फर्मों ने नहीं बनाए हैं। 
 
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

आकाश आनंद

Gadgets 360 में आकाश आनंद डिप्टी न्यूज एडिटर हैं। उनके पास प्रमुख ...और भी

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

विज्ञापन

#ताज़ा ख़बरें
  1. क्रिप्टो मार्केट में आ सकती है तेजी, Ether ETF की शुरू होगी ट्रेडिंग 
  2. Apple की SE 4 के लॉन्च की तैयारी, लीक हुआ प्राइस
  3. बजट से निराश हुआ क्रिप्टो सेगमेंट, टैक्स में नहीं मिली राहत
  4. Deadpool लिमिटेड एडिशन में लॉन्च होगा Poco F6 स्मार्टफोन! फोटो हुई लीक
  5. Tecno Camon 30S Pro फोन 12GB रैम और इस प्रोसेसर के साथ जल्द होगा लॉन्च!
  6. Redmi Pad SE 8.7 की कीमत के साथ स्पेसिफिकेशन्स भी लीक, 29 जुलाई को भारत में होगा लॉन्च
  7. iQOO 13 की डिस्प्ले, बैटरी, डिजाइन हुए लीक, जानें सबकुछ
  8. 24GB रैम, 6000mAh बैटरी के साथ nubia Z60 Ultra LV, nubia Z60S Pro फोन लॉन्‍च, जानें प्राइस
  9. Tata Curvv होगी 7 अगस्त को लॉन्च, सेफ्टी फीचर्स, रेंज और कीमत से लेकर जानें सबकुछ
  10. NRI और इंटरनेशनल ट्रैवलर्स के लिए लॉन्च हुई UPI One World वॉलेट सर्विस
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »