गूगल के इन 5 अनोखे ऐप के बारे में जानते हैं आप?

आज हम आपको गूगल के पांच ऐसे ऐप बताएंगे जिनसे आपकी जिंदगी कहीं ज्यादा बेहतर और आसान बन जाएगी।

गूगल के इन 5 अनोखे ऐप के बारे में जानते हैं आप?
विज्ञापन
आज हममें से अधिकतर लोगों के लिए स्मार्टफोन हमारी रोजमर्रा की जिंदगी का अहम हिस्सा बन गया है। हम बुहत से सारे कामों के लिए आज अपने स्मार्टफोन पर निर्भर हैं। बात चाहें हमारे स्वास्थ्य की हो, या फिर अपने व्य्स्त शेड्यूल में थोड़ा समय खुद के लिए निकालने की। गूगल हर जगह आपके साथ है। गूगल के ऐप आपसे जुड़ी हर बात का ख्याल रखते हैं।

आज हम आपको गूगल के पांच ऐसे ऐप बताएंगे जिनसे आपकी जिंदगी कहीं ज्यादा बेहतर और आसान बन जाएगी। आप किसी इवेंट या मीटिंग को भूल जाएं तो आपका मोबाइल आपको आसानी से ये बातें याद दिलाएगा। गूगल कैलेंडर (गोल्स), गूगल कीप, गूगल टॉकबैक, गूगल फिटबिट, गूगल इंडिक कीबोर्ड ऐसे ही अनेखे और बेहद काम के ऐप हैं जिनके बारे में आप शायद ही जानते हैं।

गूगल 'गोल्स'
क्या आप भी अपनी कामकाजी जिंदगी की व्यस्तता के बीच मनचाही चीजों के लिए समय नहीं निकाल पा रहे हैं? तो गूगल ने अब इसका हल ढ़ूंढ लिया है। जी हां, कुछ दिनों पहले ही सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल ने अपने कैलेंडर ऐप में 'गोल्स (Goals)' नाम से नया फीचर शामिल किया है जो आपकी पसंदीदा एक्टिविटी करने के लिए समय खोजने में आपकी मदद करेगा।

गूगल कैलेंडर में गोल्स फीचर में आप एक्सरसाइज़, बिल्ड ए स्किल, फैमिली एंड फ्रेंड्स, मी टाइम और ऑर्गनाइज़ माय लाइफ जैसे फीचर देखेंगे। इसके बाद हर फीचर में आपको कुछ विकल्प मिलेंगे जिन्हें आप अपने हिसाब से शेड्यूल कर सकते हैं और इसके साथ ही आप कस्टमाइज़ कर दूसरे विकल्प भी शामिल कर सकते हैं।

आपके व्यस्त शेड्यूल में से जो समय बचता है अब उसे व्यवस्थित करना बेहद आसान है। गूगल कैलेंडर में एड बटन पर क्लिक कर 'गोल्स' पर जाकर कुछ सवालों के जवाब दीजिए। इन सवालों में आपके प्लान या एक्टिविटी क्या हैं, आप इन्हें कितनी बार और कब तक करना चाहते हैं और पूरे दिन में आपके लिए सबसे अच्छा समय क्या है। गूगल 'गोल्स' आपके साथ काम करने के लिए तैयार लगता है। कोई काम आ जाने पर यह ऑटोमेटिकली एक्टिविटी रीशेड्यूल कर देता है। इसके अलावा आप किसी और काम के लिए एक्टिविटी पोस्टपोन करने का फैसला लेते हैं तब भी 'गोल्स' रीडशेड्यूलिंग कर देगा। गूगल का यह नया फीचर एंड्रॉयड और आईफोन यूजर के लिए उपलब्ध है।
 

गूगल कीप
गूगल कीप एक मुफ्त टूल है। अगर आपके पास एक गूगल अकाउंट है तो आप भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। अपने फोन या टैबलेट को आप एक पेपरलेस नोटपैड के तौर पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए आप अपने फोन में पहले से इंस्टॉल आए 'गूगल कीप' जैसे नोट ऐप को इस्तेमाल कर सकते हैं और उन चीजों के बारे लिख सकते हैं जिन्हें आप याद रखना चाहते हैं।

आप अपनी डायरी की तरह कभी भी अपने इन नोट को देख सकते हैं। और आपको पुराने नोट डिलीट करने की भी जरूरत नहीं है क्योंकि आपके पास स्मार्टफोन है जिसमें स्टोरेज की शायद ही दिक्कत हो। आपकी व्यस्त जिंदगी में चीजों को याद रखने का यह एक सबसे बेहतर तरीका हो सकता है।

इस ऐप में आप एक नया नोट जो़ड़ सकते हैं जो एक तस्वीर, एक टू-डू-लिस्ट या टेक्स्ट के तौर पर हो सकता है। इसके साथ ही आप ऐप में ही एक रिमाइंड भी सेट कर सकते हैं। आप अपनी जरूरत के हिसाब से ही नोट का रंग भी बदल सकते हैं। लेबल लगा सकते हैं। सबसे खास कि आप गूगल के वॉयस फीचर का इस्तेमाल कर भी नोट स्टोर कर सकते हैं। गूगल कीप को आप अपने जीमेल इनबॉक्स के साकथ सिंक कर भी इस्तेमाल कर सकते हैं। गूगल कीप प्ले स्टोर पर मुफ्त डाउनलोड के लिए उपलब्ध है।
 

गूगल इंडिक कीबोर्ड
गूगल के हिंदी कीबोर्ड ऐप को अब इंडिक कीबोर्ड के नाम से जाना जाता है। नए ऐप में 10 और क्षेत्रीय भाषाओं के लिए सपोर्ट दिया गया है। नए गूगल इंडिक कीबोर्ड को गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध करा दिया गया है। यूज़र इसे डाउनलोड कर सकते हैं।

हिंदी के अलावा अब इंडिक कीबोर्ड में असमिया, बंगाली, गुजराती, कन्नड़, मलयालम, मराठी, उड़िया, पंजाबी, तमिल और तेलुगू भाषाओं के लिए सपोर्ट मौजूद है।

नए इंडिक कीबोर्ड में कई मोड मौजूद हैं जिसमें ट्रांसलिटरेशन मोड भी शामिल है। इस मोड में बोलने के अंदाज में अंग्रेजी शब्द लिखने पर आउटपुट हिंदी भाषा में मिलता है। इसके अलावा एक हैंडराइटिंग मोड है जो फिलहाल सिर्फ हिंदी के लिए उपलब्ध है। इसकी मदद से यूज़र सीधे फोन के स्क्रीन पर लिख सकते हैं। एक हिंग्लिश मोड भी मौजूद है जो अंग्रेजी और हिंग्लिश में शब्दों का सुझाव देता है। गूगल प्ले की लिस्टिंग के मुताबिक, नया इंडिक कीबोर्ड ट्रांसलिटरेशन मोड और हिंदी के नेटिव कीबोर्ड मोड में ज्यादा बेहतर सुझाव देगा। मोड बदलने के लिए यूज़र इंटरफेस में भी बदलाव किया गया है।
 

गूगल फिट
गूगल फिट को ऐप्पल के हेल्थ ऐप को टक्कर देने के इरादे से लॉन्च किया गया था। यह ऐप आपके डिवाइस में दिए गए सेंसर का इस्तेमाल कर वॉकिंग, बाइकिंग और रनिंग जैसी एक्टिविटी को ऑटोमैटिकली ट्रैक करता है। गूगल का यह हेल्थ ऐप वाकई एक शानदार ऐप है। इसके साथ ही इस ऐप को आप अपने फिटनेस गोल्स और वज़न से जुड़ी जानकारी के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं। गूगल फिट ऐप प्ले स्टोर पर मुफ्त डाउनलोड के लिए उपलब्ध है। इसके अलावा एंड्रॉयड वियर वॉच में यह प्री-लोडेड आता है और इसे गूगल की वेबसाइट से भी एक्सेस किया जा सकता है।

ऐप को अपने मोबाइल में डाउनलोड करने के बाद नियम व शर्तो पर सहमत होकर आपको अपनी एक्टिविटी की जानकारी और लोकेशन हिस्ट्री डालनी होती है। लोकेशन डेटा पूरे दिन आपकी एक्टिविटी और प्रोग्रेस पर नज़र रखता है।

गूगूल के इस ऐप में गोल में जाकर आप एक लक्ष्य सेट कर सकते हैं। मेन्यू बटन में जाकर इसे कस्टमाइज़ किया जा सकता है। सेटिंग में डेली गोल्स को पर टैप कर आप अपना लक्ष्य सेट कर सकते हैं। आप अपनी रोजमर्रा की एक्टिविटी और गोल को बदल भी सकते हैं। इसके बाद आप मेन्यू में सेटिंग में जाकक अपनी लंबाई और वज़न से जु़ड़ी जानकारी डाल सकते हैं। इसके अलावा इस ऐप में एक विकल्प है जिसमें आप हर रोज का वज़न जोड़ सकते हैं। इसे आप अपने हर दिन, हफ्ते और महीने के हिसाब से वज़न घटाने के लिए ट्रैक कर सकते हैं।

आप जब चाहें अपने पिछले दिन, हफ्ते या महीने के डेटा को गूगल फिट ऐप और वेबसाइट पर देख सकते हैं। मोबाइल ऐप की मुख्य स्क्रीन पर नीचे की तरफ 'सी ग्राफ डिटेल्स' में जाकर पूरा डेटा देखा जा सकता है। हो सकता है कि आप गूगल फिट ऐप पर मौजूद अपने डेटा को डिलीट करना चाहें। तो आप मेन्यू में सेटिंग में जाकर डिलीट हिस्ट्री पर टैप कर जब चाहें इसे डिलीट कर सकते हैं।

गूगल टॉकबैक
गूगल टॉकबैक एक ऐसा ऐप है जो बोलने, सुनने और देखने में अक्षम लोगों के लिए बहुत मदद करता है। जैसा कि नाम से जाहिर है कि टॉकबैक दृष्टिहीन लोगों के लिए डिवाइस ऑपरेट करने में असिस्टेंट की भूमिका निभाता है। यह एक सिस्टम ऐप्लिकेशन है तो अधिकतर डिवाइस में प्री-इंस्टॉल आता है।

टॉकबैक भी गूगल के अधिकतर दूसरे ऐप की तरह प्ले स्टोर पर डाउनलोड करने के लिए मुफ्त उपलब्ध है। टॉकबैक को सेटिंग में जाकर एक्सेसिबिलिटी पर क्लिक कर एक्टिव किया जा सकता है।

इसके अलावा गूगल फोटोज़, गूगल ड्राइव, गूगल क्रोम, गूगल ट्रांसलेट और गूगल मैप्स जैसे कई दूसरे फीचर भी हैं जो हमारी रोजमर्रा की जिंदगी को खासा आसान बना देते हैं।
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

ये भी पढ़े: , Google, Google apps, Google Fitbit, Google Goals, Google Photos
Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. Moto G04s का प्राइस हो सकता है 8,000 रुपये से कम, 30 मई को लॉन्च
  2. Bounce Infinity E1X इलेक्ट्रिक स्कूटर Rs. 55 हजार की शुरुआती कीमत में भारत में हुआ लॉन्च, जानें फीचर्स
  3. Realme GT 7 Pro जल्द हो सकता है भारत में लॉन्च
  4. फ्रांस से 26 राफेल मैरीन फाइटर जेट्स खरीदने के लिए हो सकती है 50,000 करोड़ रुपये की डील
  5. iQOO 13 डिस्प्ले, प्रोसेसर और स्टोरेज का खुलासा, जानें सबकुछ
  6. Segway Ninebot C2 Lite: 14 Km रेंज देने वाले इस ई-स्कूटर खास बच्चों के लिए किया गया है डिजाइन, जानें कीमत
  7. Realme Narzo N65 5G vs Realme Narzo N55: जानें दोनों में क्या है अंतर
  8. WhatsApp New Feature: व्हाट्सएप पर लगा सकेंगे 1 मिनट लंबा वॉयस स्टेटस अपडेट
  9. Realme GT 6 में हो सकते हैं GenAI फीचर्स, लीक हुआ रिटेल बॉक्स
  10. Vivo S19, S19 Pro में होगा 50 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा, 30 मई को लॉन्च
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »