90 करोड़ एंड्रॉयड डिवाइस हैं इस कमी का शिकार, कहीं आपका हैंडसेट भी...

एंड्रॉयड डिवाइस की एक बहुत बड़ी कमी का खुलासा हुआ है जिससे इस ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले दुनिया भर के करीब 90 करोड़ डिवाइस प्रभावित हैं।

90 करोड़ एंड्रॉयड डिवाइस हैं इस कमी का शिकार, कहीं आपका हैंडसेट भी...
ख़ास बातें
  • क्वाडरूटर का फायदा उठाकर कोई अटैकर डिवाइस का पूरा कंट्रोल पा लेगा
  • क्वाडरूटर कमी क्वालकॉम चिपसेट के साथ आने सॉफ्टवेयर ड्राइवर में मिली
  • क्लावकॉम ने बताया है कि कमी को दूर करने के लिए पैच रिलीज कर दिए गए हैं
विज्ञापन
एंड्रॉयड डिवाइस की एक बहुत बड़ी कमी का खुलासा हुआ है जिससे इस ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले दुनिया भर के करीब 90 करोड़ डिवाइस प्रभावित हैं। इसकी जानकारी सिक्योरिटी रिसर्चर ने दी है। चेक प्वाइंट मोबाइल रिसर्च टीम ने सबसे पहले इस कमी को उजागर किया और दावा किया है कि इससे क्वालकॉम चिपसेट पर चलने वाले सभी डिवाइस प्रभावित हैं।

इसे 'क्वाडरूटर' का नाम दिया गया है। बताया गया है कि क्वालकॉम चिपसेट पर चलने वाले एंड्रॉयड डिवाइस को चार तरह की कमियों एक ही बार में प्रभावित किया है। इस रिसर्च टीम ने बताया है कि इन चार में से किसी एक कमी का फायदा उठाकर अटैकर हैंडसेट का रूट एक्सेस हासिल कर सकता है। टीम ने यह भी दावा किया है कि क्वाडरूटर वाली कमी सॉफ्टवेयर ड्राइवर में मौजूद है जो क्वालकॉम चिपसेट के साथ आता है। चेकप्वाइंट ने कहा है, "इस चिपसेट पर चलने वाले हर एंड्रॉयड डिवाइस पर खतरा है। "

क्वालकॉम ने ज़ेडडीनेट को बताया है कि इस कमी के संबंध में ग्राहकों, पार्टनर और ओपन सोर्स कम्युनिटी के लिए सिक्योरिटी पैच उपलब्ध करा दिए गए हैं। यह अप्रैल से जुलाई के बीच में किया गया था।

सबसे बड़ी चिंता की वजह यह है कि खराब सॉफ्टवेयर डिवाइस के निर्माण के दौरान ही इंस्टॉल किया जाता है। मोबाइल निर्माता कंपनियों या टेलीकॉम कैरियर द्वारा सिक्योरिटी पैच जारी करने के बाद ही इसे ठीक किया जा सकता है। चेक प्वाइंट ने एक ब्लॉग पोस्ट में लिखा, "डिस्ट्रीब्यूटर और कैरियर क्वालकॉम से फिक्स्ड ड्राइवर पैक मिलने के बाद ही पैच रिलीज कर सकते हैं।"

चेक प्वाइंट मोबाइल रिसर्च टीम ने बताया, "एक अटैकर इन कमियों का फायदा एक खतरनाक ऐप के जरिए उठा सकता है। इस खतरनाक ऐप को इन कमियों का फायदा उठाने के लिए किसी खास की इज़ाजत की भी ज़रूरत नहीं पड़ेगी। आपको इन ऐप को इंस्टॉल करने के दौरान कोई शक भी नहीं होगा।"

क्वाडरूटर कमी से प्रभावित लोकप्रिय हैंडसेट में ब्लैकबेरी प्रिव, गूगल नेक्सस 5एक्स, नेक्सस 6पी, एचटीसी 10, एलजी जी5, मोटो एक्स, वनप्लस 3 और सैमसंग गैलेक्सी एस7 शामिल हैं।

बताया गया है, "क्वाडरूटर कमी का फायदा उठाकर कोई भी हैकर आपके डिवाइस का पूरी तरह से कंट्रोल पा लेगा। उसे आपके निजी डेटा का अप्रतिबंधित एक्सेस मिल जाएगा।"
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

केतन प्रताप Ketan Pratap is the editor at Gadgets 360 - with over 12 years of experience covering the technology domain. With a breadth and depth of knowledge in the field, he's ...और भी
Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. BYD ने एक दिन में की Seal EV की 200 यूनिट्स की डिलीवरी
  2. Lava Yuva 5G इस सप्ताह होगा भारत में लॉन्च
  3. पाकिस्तानी हैकर्स इन मैसेजिंग ऐप्स के जरिए भारत सरकार और डिफेंस की वेबसाइटों को बना रहे हैं निशाना
  4. TCL ने लॉन्च किए 75-इंच साइज तक के कई नए स्मार्ट टेलीविजन मॉडल, कीमत Rs. 15,990 से शुरू
  5. ISS पर मिशन के लिए भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों को एडवांस ट्रेनिंग देगी NASA
  6. Xiaomi 14 Civi अगले महीने होगा भारत में लॉन्च, ट्रिपल रियर कैमरा यूनिट
  7. Comet : पृथ्‍वी की ओर आ रहा धूमकेतु, बिना दूरबीन दिखाई देगा, कब पहुंचेगा? जानें
  8. Samsung Galaxy M35 5G फोन लॉन्‍च, इसमें है 6000mAh बैटरी, 50MP कैमरा, 8जीबी रैम, जानें प्राइस
  9. क्रिप्टो मार्केट में तेजी, Bitcoin का प्राइस 72,000 डॉलर से ज्यादा
  10. Realme ने डुअल रियर कैमरा यूनिट के साथ लॉन्च किया Narzo N65 5G
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »