TikTok खुद ही कर रहा है अपने यूज़र्स के साथ भेदभाव!

भेदभाव से भरी इस TikTok गाइडलाइन कहती है कि बदसूरत दिखने वाले या तोंद वाले लोगों की वीडियो को ऐप में ना डाला जाए। इस पॉलिसी पर कंपनी ने सफाई भी जारी की है।

Share on Facebook Tweet Share Snapchat Reddit आपकी राय
TikTok खुद ही कर रहा है अपने यूज़र्स के साथ भेदभाव!
ख़ास बातें
  • TikTok की गाइडलाइन्स का एक हिस्सा लीक हुआ है
  • गाइडलाइन में टिक टॉक ने गरीब लोगों की वीडियो को हटाने का आदेश दिया है
  • असामान्य शरीर और बदसूरत यूज़र्स की वीडियो को रोकने की पॉलिसी भी सामने आई
TikTok के दुनिया भर में लाखों यूज़र्स हैं, जो किसी भी टॉपिक को लेकर और कभी-कभी बिना किसी टॉपिक के ही शॉर्ट वीडियो बनाते और साझा करते हैं। जहां एक ओर यह ऐप ग्लोबल स्तर पर ऐप स्टोर पर ट्रॉप ऐप्स की लिस्ट में अपनी जगह बना रही है, वहीं, दूसरी ओर कंपनी "असामान्य आकार के शरीर" या "बदसूरत दिखने वाले" यूज़र्स को रोकने के लिए अपने मॉडरेटर्स को आदेश दे रही है। इतना ही नहीं, कंपनी की ओर से जारी गाइडलाइनों में मॉडरेटर्स को "बीयर बैली" यानी मोटे पेट वाले लोगों की वीडियो को भी ऐप से हटाने को कहा गया है। टिक टॉक को पहले भी कई बार कंटेंट को रोकने के आरोपों का सामना करना पड़ा चुका है, विशेष रूप से विकलांग यूज़र्स के पोस्ट। टिक टॉक ऐप का मालिकाना हक रखने वाली कंपनी ByteDance कई लोकप्रिय वेबसाइट और सोशल ऐप चलाती है।

Intercept की एक रिपोर्ट में आंतरिक सूत्र का हवाला देते हुए यह जानकारी मिली है कि टिक टॉक ने अपने मॉडरेटर्स को गाइडलाइन्स दी है कि बदसूरत दिखने वाले या तोंद वाले लोगों की वीडियो को ऐप में ना डाला जाए। यहां तक की रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि कंपनी की पॉलिसी गरीब लोगों या झुग्गियों में रहने वाले लोगों के वीडियो को भी रोकती है।

रिपोर्ट में आगे यह भी बताया गया है कि भेदभाव से भरी इस Tik Tok गाइडलाइन का केवल कुछ हिस्सा ही लीक हुआ है। इस पॉलिसी में ना केवल गरीब, बदसूरत या असामान्य शरीर वाले यूज़र्स की वीडियो को रोकने की गाइडलाइन थी, बल्कि दिव्यांग और LGBT के पोस्ट को भी रोकने की गाइडलाइन शामिल थी।

टिक टॉक की गाइडलाइन कहती है कि गरीब दिखने वाले लोगों के वीडियो को प्लेटफॉर्म से बैन कर दिया जाए। लीक हुए इस टिक टॉक गाइडलाइन में घर की टूटी हुई दिवारों या पुराने दिखने वाले घर में बनाए गए वीडियो को भी हटाए जाने की बात है।

इसपर टिक टॉक ने बयान भी दिया है। टिक टॉक के एक प्रवक्ता ने The Intercept को बताया है कि कंपनी ने इस पॉलिसी को यूज़र्स को केवल बुलिंग से बचाने के लिए बनाया था। यह भी कहा गया है कि इस तरह की पॉलिसी एक समय में कंपनी के पास थी, लेकिन इसे अब इस्तेमाल नहीं किया जाता है।
आपकी राय

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

पढ़ें: English বাংলা
 
 

ADVERTISEMENT

Advertisement

#ट्रेंडिंग टेक न्यूज़
  1. WhatsApp अकाउंट को जल्द एक से अधिक डिवाइस पर चला सकेंगे यूज़र्स!
  2. WhatsApp अकाउंट हो रहे हैं हैक, जानें क्या है पूरा मामला...
  3. WhatsApp Status में अब 15 सेकेंड से लंबा वीडियो नहीं होगा अपलोड, जानें कारण
  4. Honor 30S लॉन्च, 64 मेगापिक्सल कैमरे से है लैस
  5. OnePlus 8 Pro की कथित तस्वीर लॉन्च से पहले आई सामने
  6. Samsung Galaxy M11 लॉन्च, तीन रियर कैमरे और 5,000 एमएएच बैटरी है खासियत
  7. Vivo S6 क्वाड कैमरा सेटअप और 5G सपोर्ट के साथ हुआ लॉन्च, जानें स्पेसिफिकेशन
  8. Xiaomi ला सकती है बजट 5जी फोन, Redmi Note सीरीज़ के फोन को मिला सर्टिफिकेशन
  9. Airtel के इस कदम से करीब 8 करोड़ प्रीपेड यूज़र्स को होगा फायदा
  10. कोरोनावायरस लॉकडाउन: BSNL ग्राहकों को मिली मुफ्त अतिरिक्त वैधता और 10 रुपये का बैलेंस
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2020. All rights reserved.
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com