ग्रीनलैंड की चट्टानों में मिला 3.7 अरब साल पुराना सीक्रेट! आप भी जानें

एमआईटी और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के जियोलॉजिस्‍ट को ग्रीनलैंड में पुरानी चट्टानें मिली हैं। इनमें पृथ्वी के शुरुआती चुंबकीय क्षेत्र (magnetic field) के अवशेष मौजूद हैं।

ग्रीनलैंड की चट्टानों में मिला 3.7 अरब साल पुराना सीक्रेट! आप भी जानें

Photo Credit: Pixabay

पृथ्‍वी का चुंबकीय क्षेत्र ही हमें हानिकारक विकिरण यानी रेडिएशन से बचाता है। (सांकेतिक तस्‍वीर।)

ख़ास बातें
  • वैज्ञानिकों ने 3.7 अरब साल पुरानी चट्टाानों में की खोज
  • शुरुआती चुंबकीय क्षेत्र के मिले अवशेष
  • ग्रीनलैंड में मिलीं पुरानी चट्टानें
विज्ञापन
एक नई खोज करते हुए वैज्ञानिकों ने 3.7 अरब साल पुरानी चट्टानों का पता लगाया है। एमआईटी और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के जियोलॉजिस्‍ट को ग्रीनलैंड में ये पुरानी चट्टानें मिली हैं। दावा है कि इनमें पृथ्वी के शुरुआती चुंबकीय क्षेत्र (magnetic field) के अवशेष मौजूद हैं। यह रिसर्च पृथ्‍वी पर जीवन के प्रारंभिक दिनों के बारे में रोशनी डाल सकती है। जियोफ‍िजिकल रिसर्च पेपर में नई फाइंडिंग्‍स को पब्लिश किया गया है। 

वैज्ञानिकों के मुताबिक, करोड़ों साल पहले पृथ्‍वी पर प्राचीन चुंबकीय क्षेत्र की ताकत कम से कम 15 माइक्रोटेस्ला थी। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. क्लेयर निकोल्स ने कहा कि पृथ्‍वी का चुंबकीय क्षेत्र ही हमें हानिकारक विकिरण यानी रेडिएशन से बचाता है। इसकी वजह से ही हमारे महासागर और वायुमंडल में स्थिरता है। इस वजह से चुंबकीय क्षेत्र काफी महत्‍वपूर्ण पहलू है। 

रिसर्च टीम को डॉ. क्लेयर निकोल्स के साथ एमआईटी के प्रोफेसर बेंजामिन वीस ने लीड किया। रिसर्च टीम ने ग्रीनलैंड के इसुआ सुप्राक्रस्टल बेल्ट (Isua Supracrustal Belt) पर अपना अभियान शुरू किया। यह जगह प्राचीन चट्टानी संरचनाओं के लिए जानी जाती है। वैज्ञानिक इन चट्टानों में लोहे की संरचनाओं का विश्लेषण करके उनमें अरबों साल से संरक्षित मैग्निटिक सिग्‍नेचर्स को समझना चाहते थे। 

चट्टानी सैंपलों को लैब टेस्‍ट के लिए ले जाया गया। वैज्ञानिकों ने कन्‍फर्म किया कि तमाम हालात से गुजरने के बाद भी चट्टानों ने एक प्राचीन चुंबकीय क्षेत्र बरकरार रखा है। इससे अनुमान लगाया जा सकता है कि पृथ्वी का प्रारंभिक चुंबकीय क्षेत्र आज के चुंबकीय क्षेत्र को फ्यूल देने वाले सोर्स की तुलना में अलग पावर से जुड़ा है। इससे चुंबकीय क्षेत्र के उत्पत्त‍ि के मौजूदा सिद्धांत को भी चुनौती मिलती है। 

वैज्ञानिक यह जानना चाहते हैं कि पृथ्वी अपने शुरुआती चरण में इतना पावरफुल चुंबकीय क्षेत्र कैसे बनाए रख पाई। यह खोज पृथ्वी के इतिहास के बारे में नए राज खोल सकती है। पृथ्‍वी से बाहर जीवन की तलाश में भी यह खोज कारगर हो सकती है। 

 
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

प्रेम त्रिपाठी

प्रेम त्रिपाठी Gadgets 360 में चीफ सब एडिटर हैं। 10 साल प्रिंट मीडिया ...और भी

संबंधित ख़बरें

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. LG ने लॉन्च की 14kg कैपेसिटी वाली वॉशिंग मशीन, AI तकनीक से कपड़ों का पता लगाकर 360 डिग्री वॉश करती है!
  2. Tata Motors की Harrier EV को लॉन्च करने की तैयारी, 500 किलोमीटर से ज्यादा हो सकती है रेंज
  3. Kalki 2898 AD Trailer : प्रभास, अमिताभ, दीपिका की फ‍िल्‍म के ट्रेलर ने मचाई सनसनी! 1 दिन में 2.3 करोड़ व्‍यूज
  4. वित्त मंत्री के तौर पर निर्मला सीतारमण की वापसी से क्रिप्टो पर टैक्स बरकरार रहने के आसार
  5. Hyundai लॉन्च करेगी नई इलेक्ट्रिक कार, सिंगल चार्ज में चलेगी 355 किलोमीटर!
  6. Nu Republic Cyberstud Spin : ‘खिलौने’ की शक्‍ल में ईयरबड्स लॉन्‍च, 70 घंटे चलेंगे सिंगल चार्ज में, जानें प्राइस
  7. Realme GT 6 में होगी 5,500mAh की बैटरी, अगले सप्ताह होगा लॉन्च
  8. China Moon Mission : चंद्रमा के ‘छुपे’ हुए हिस्‍से से मिट्टी-पत्‍थर लाएगा चीन, इस दिन होगी पृथ्‍वी पर एंट्री
  9. क्रिप्टो से जुड़े रोमांस स्कैमेस में बढ़ोतरी, FTC ने दी चेतावनी
  10. IND vs USA T20 Match : पहली बार टी20 खेलेंगे भारत-अमेरिका, आज रात मुकाबला, ऐसे देखें LIVE
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »