• होम
  • इंटरनेट
  • ख़बरें
  • चीन का जासूसी गुब्बारा अमेरिका के इंटरनेट का कर रहा था इस्तेमाल! रिपोर्ट में खुलासा

चीन का जासूसी गुब्बारा अमेरिका के इंटरनेट का कर रहा था इस्तेमाल! रिपोर्ट में खुलासा

नेटवर्क कनेक्शन को इंटेलिजेंस डेटा वापस चीन में भेजने के लिए इस्तेमाल नहीं किया गया। लेकिन बलून ने सभी जरूरी जानकारी अपने अंदर ही स्टोर कर ली, ताकि बाद में इसे खोलकर देखा जा सके।

चीन का जासूसी गुब्बारा अमेरिका के इंटरनेट का कर रहा था इस्तेमाल! रिपोर्ट में खुलासा

Photo Credit: istock

2023 की शुरुआत में चीन ने अमेरिका की ओर एक कथित जासूसी गुब्बारा भेजा था।

ख़ास बातें
  • बलून ने सभी जरूरी जानकारी अपने अंदर ही स्टोर कर ली थी।
  • चीन ने अमेरिकी इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर का इस्तेमाल किया था।
  • 2023 की शुरुआत में चीन ने अमेरिका की ओर एक जासूसी गुब्बारा भेजा था।
विज्ञापन
2023 की शुरुआत में चीन ने अमेरिका की ओर एक जासूसी गुब्बारा, या स्पाई बलून भेजा था। अब एक अमेरिकी अधिकारी ने खुलासा करते हुए कहा है कि इस गुब्बारे के माध्यम से जानकारी लेने के लिए चीन ने अमेरिकी इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर का इस्तेमाल किया था। जिसके माध्यम से इसने नेविगेशन और लोकेशन से संबंधित डेटा ट्रांस्फर किया। 

NDTV की रिपोर्ट के अनुसार, इसी कनेक्शन के माध्यम से अमेरिकी इंटेलिजेंस एजेंसियों ने बलून की लोकेशन ट्रैक करने और महत्वपूर्ण जानकारी जुटाने में सफलता पाई। हालांकि इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर की पहचान यहां पर नहीं बताई गई है। लेकिन रिपोर्ट में कहा गया है कि बलून जब अमेरिका के ऊपर से गुजर रहा था तो वह बीजिंग में कम्युनिकेशन स्थापित करने में सक्षम था। 

अधिकारियों ने कहा कि नेटवर्क कनेक्शन को इंटेलिजेंस डेटा वापस चीन में भेजने के लिए इस्तेमाल नहीं किया गया। लेकिन बलून ने सभी जरूरी जानकारी अपने अंदर ही स्टोर कर ली, ताकि बाद में इसे खोलकर देखा जा सके। अमेरिका ने फरवरी में इस बलून को पकड़ कर इनेक्टिव कर दिया था। और इसमें स्टोर की गई जानकारी का विश्लेषण किया। वहीं, FBI और नेशनल इंटेलिजेंस ऑफिस ने इस बारे में कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। सीएनएन ने वाशिंगटन में मौजूद चीन की एम्बेसी में भी इस बारे में प्रतिक्रिया लेने की कोशिश की। 

वहीं, चीन लगातार इस बात पर अड़ा हुआ है कि उसकी तरफ से आया वह गुब्बारा एक वेदर बलून था, जो मौसम की जानकारी इकट्ठा करने के लिए उड़ाया गया था, लेकिन यह अपना रास्ता भटक गया था। लेकिन इससे पहले सीएनएन द्वारा दी गई एक रिपोर्ट में कहा गया था कि यूएस इंटेलिजेंस ने इस बात का पता लगाया है कि बलून चीनी मिलिट्री के सर्विलांस प्रोग्राम का ही हिस्सा था। 
 
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

हेमन्त कुमार

हेमन्त कुमार Gadgets 360 में सीनियर सब-एडिटर हैं और विभिन्न प्रकार के ...और भी

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. DC Vs SRH Live: दिल्ली कैपिटल्स बनाम सनराइजर्स हैदराबाद IPL मैच कुछ देर में, यहां देखें फ्री!
  2. Vivo ने लॉन्च किया Y200i, 50 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा
  3. धरती में तेजी धंस रहे हैं इस देश के आधे से ज्यादा शहर!
  4. Pixel 9 Pro की रियल लाइफ इमेज लीक, 16GB रैम, फ्लैट डिस्प्ले से होगा लैस!
  5. भारत का विजिट नहीं करेंगे Elon Musk, टेस्ला में काम के बोझ का बताया कारण
  6. UP Board 10th Result 2024: यूपी बोर्ड 10वीं रिजल्ट रोल नम्बर से ऐसे करें चेक
  7. HP Omen Transcend 14 गेमिंग लैपटॉप लॉन्च, 11.5 घंटे की बैटरी, 2.8K 120Hz डिस्प्ले से है लैस, जानें कीमत
  8. Samsung ने 8GB के RAM के साथ लॉन्च किया Galaxy F15 5G, जानें प्राइस, स्पेसिफिकेशंस
  9. Prime Gaming: Amazon दे रहा है Fallout 76 गेम को फ्री में खेलने का मौका, ऐसे करें डाउनलोड
  10. itel S24, itel T11 Pro जल्द होंगे भारत में लॉन्च, जानें सबकुछ
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »