Terra 2.0 की शुरुआत पर ही वैल्यू में बड़ी गिरावट

Terra के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर Do Kwon की ओर से पेश की गई रिकवरी की योजना पर हाल ही में वोटिंग हुई थी। इसमें Terra के इनवेस्टर्स में से 65 प्रतिशत से अधिक ने इस प्रपोजल को स्वीकृति दी है

Terra 2.0 की शुरुआत पर ही वैल्यू में बड़ी गिरावट

LUNA टोकन को LUNA Classic कहा जाएगा

ख़ास बातें
  • Terraform Labs ने हाल ही में एक नई ब्लॉकचेन का प्रपोजल दिया था
  • बहुत सी एप्लिकेशंस नई चेन पर शिफ्ट हो गई हैं
  • इस प्रपोजल को लेकर विवाद भी शुरू हो गया था
विज्ञापन
स्टेबलकॉइन TerraUSD और इसके  Terra (LUNA) के प्राइसेज में भारी गिरावट के बाद इनसे जुड़ी फर्म Terraform Labs की ओर से बनाई गई रिकवरी की योजना को शुरुआत में ही झटका लगा है। क्रिप्टोकरेंसी LUNA 2.0 के लॉन्च के कुछ ही घंटे बाद इसकी वैल्यू काफी गिर गई। लॉन्च से पहले इस टोकन की वैल्यू 30-50 डॉलर के बीच होने की अटकलें थी।

लॉन्च के बाद इस गवर्नेंस टोकन का प्राइस 18.87 डॉलर तक पहुंच गया था लेकिन इसके बाद यह गिरकर रविवार को 4.08 डॉलर तक रह गया। Terraform Labs ने LUNA Classic और UST के होल्डर्स को LUNA 2.0 टोकन्स वितरित किए थे।  Terraform Labs ने हाल ही में एक नई ब्लॉकचेन का प्रपोजल दिया था। बहुत सी एप्लिकेशंस नई चेन पर शिफ्ट हो गई हैं। इनमें Prism, Spectrum, Nebula और  Edge Protocol शामिल हैं। LUNA 2.0 टोकन्स की ट्रेडिंग LUNA Classic टोकन्स से अलग होगी। 

Terra के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर Do Kwon की ओर से पेश की गई रिकवरी की योजना पर हाल ही में वोटिंग हुई थी। इसमें Terra के इनवेस्टर्स में से 65 प्रतिशत से अधिक ने इस प्रपोजल को स्वीकृति दी है। हालांकि, इस प्रपोजल को लेकर विवाद भी शुरू हो गया था। प्रपोजल को स्वीकृति मिलने का मतलब है कि केवल LUNA के लिए एक नई ब्लॉकचेन शुरू की जाएगी और LUNA टोकन को LUNA Classic कहा जाएगा। पुरानी Terra ब्लॉकचेन मौजूद रहेगी लेकिन इससे जुड़ी टीम ने नाकाम हुए स्टेबलकॉइन UST को छोड़ने का फैसला किया है। प्रपोजल के तहत, Terra की टीम अपनी कम्युनिटी को एक आगामी एयरड्रॉप के लिए कई सेंट्रलाइज्ड एक्सचेंजों से सपोर्ट हासिल करने पर काम कर रही है। LUNA टोकन्स के 35 प्रतिशत गिरावट से पहले के LUNA और UST होल्डर्स को एयरड्रॉप किए जाएंगे। टोकन के वितरण का एक बड़ा हिस्सा Terra dApp डिवेलपर्स और पूरे इकोसिस्टम के लिए एलोकेट होगा

स्टेबलकॉइन्स ऐसी क्रिप्टोकरेंसीज होते हैं जो अपने मार्केट प्राइस को गोल्ड या सामान्य करेंसीज जैसे किसी रिजर्व एसेट से जोड़ने की कोशिश करते हैं। ये ऐसी डिजिटल ट्रांजैक्शंस के लिए अधिक इस्तेमाल होते हैं जिनमें वर्चुअल एसेट्स को वास्तविक एसेट्स में कन्वर्ट करना शामिल होता है।  USD Coin, Tether और Binance USD कुछ लोकप्रिय स्टेबलकॉइन्स हैं, जो अमेरिकी डॉलर से जुड़े हैं।
 
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

ये भी पढ़े: Crypto, Terra, Blockchain, Luna, Investors, Value
Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. Ulefone Armor 23 Ultra स्मार्टफोन सैटेलाइट कनेक्टिविटी के साथ MWC 2024 में हुआ पेश
  2. Cult Active TR लॉन्च हुई 1.52" डिस्प्ले, 7 दिन बैटरी लाइफ के साथ, जानें स्मार्टवॉच की कीमत
  3. टैटू बनवाने वाले सावधान! सेहत को हो सकता है नुकसान
  4. Realme 12 5G, 12+ 5G की कीमत लीक, 8GB रैम, 5000mAh बैटरी के साथ 6 मार्च को होंगे लॉन्च
  5. TVS Motor की सेल्स 33 प्रतिशत बढ़कर 3.68 लाख यूनिट्स से ज्यादा
  6. Samsung की Galaxy S25 सीरीज में हो सकता है Exynos चिप
  7. Cognizant के कर्मचारियों को हफ्ते में 3 दिन आना होगा ऑफिस, कंपनी ने लॉन्च किया एक स्पेशल ऐप
  8. Google भी चला Apple की राह! स्मार्टफोन यूजर्स के लिए रिलीज हो सकता है नया 'Satellite SOS' फीचर
  9. Apple पर लगा 2 अरब डॉलर का जुर्माना, ऐप स्टोर के गलत इस्तेमाल का आरोप
  10. ये हैं टॉप परफॉर्मेंस वाले फ्लैगशिप किलर फोन, Redmi K70E ने मारी बाजी, OnePlus और OPPO ने किया कमाल
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »