• होम
  • सोशल
  • ख़बरें
  • अफगानिस्तान पर तालिबानी कब्जे ने Facebook, Twitter और YouTube के लिए खड़ी कर दी नई चुनौती

अफगानिस्तान पर तालिबानी कब्जे ने Facebook, Twitter और YouTube के लिए खड़ी कर दी नई चुनौती

Facebook ने पुष्टि की कि वह तालिबान को एक आतंकवादी समूह के रूप में नामित करता है और इसे तथा इसको सपोर्ट करने वाले फेसबुक कन्टेंट पर प्रतिबंध लगाता है।

अफगानिस्तान पर तालिबानी कब्जे ने Facebook, Twitter और YouTube के लिए खड़ी कर दी नई चुनौती

अफगानिस्तान के काबुल में हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे में घुसने की कोशिश करते लोग।

ख़ास बातें
  • Facebook देश की स्थिति पर करीब से नजर रख रही थी।
  • Twitter पर हजारों फॉलोअर्स वाले तालिबान प्रवक्ताओं के ट्वीट हो रहे अपडेट।
  • प्रतिबंध के बावजूद WhatsApp पर तालिबानियों का अफगानियों से संवाद जारी।
तालिबान का अफगानिस्तान पर तेजी से कब्जा करना बड़ी अमेरिकी टेक कंपनियों के लिए मुश्किलें खड़ी कर रहा है। कुछ विश्व सरकारों द्वारा आतंकवादी माने जाने वाले समूह द्वारा जारी किए जा रहे कंटेंट को संभालने के लिए इन टेक कंपनियों के सामने एक नई चुनौती आ खड़ी हुई है। सोशल मीडिया दिग्गज Facebook ने सोमवार को पुष्टि की कि वह तालिबान को एक आतंकवादी समूह के रूप में नामित करता है और इसे तथा इसको सपोर्ट करने वाले फेसबुक कन्टेंट पर प्रतिबंध लगाता है।

मगर तालिबान के सदस्यों ने कथित तौर पर फेसबुक की एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड मैसेजिंग सर्विस WhatsApp का उपयोग अफगानियों के साथ सीधे संवाद करने के लिए जारी रखा, जबकि कंपनी ने इसे खतरनाक संगठनों के खिलाफ नियमों के तहत प्रतिबंधित कर दिया है।

Facebook के एक प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी देश में स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रही है और व्हाट्सएप अफगानिस्तान में स्वीकृत संगठनों से जुड़े किसी भी अकाउंट पर कार्रवाई करेगा, जिसमें अकाउंट को हटाना भी शामिल हो सकता है।Twitter पर तालिबान के सैकड़ों हजारों फॉलोअर्स वाले प्रवक्ता ने देश के अधिग्रहण के दौरान अपडेट ट्वीट किए हैं। तालिबान द्वारा प्लैटफॉर्म के उपयोग के बारे में पूछे जाने पर, कंपनी ने हिंसक संगठनों और घृणित आचरण के खिलाफ अपनी नीतियों की ओर इशारा किया, लेकिन रॉयटर्स के सवालों का जवाब नहीं दिया कि यह इसका वर्गीकरण कैसे करता है। Twitter के नियम कहते हैं कि यह उन समूहों को अनुमति नहीं देता है जो नागरिकों के खिलाफ आतंकवाद या हिंसा को बढ़ावा देते हैं।

तालिबान अधिकारियों ने बयान जारी कर कहा है कि वे शांतिपूर्ण अंतरराष्ट्रीय संबंध चाहते हैं और उन्होंने अफगानों की रक्षा करने का वादा किया है। इस साल प्रमुख सोशल मीडिया फर्मों ने सत्ता में बैठे विश्व नेताओं और समूहों को संभालने के लिए हाई-प्रोफाइल निर्णय लिए। इनमें 6 जनवरी के कैपिटल दंगे के आसपास हिंसा भड़काने और देश में तख्तापलट के बीच म्यांमार की सेना पर प्रतिबंध लगाने के लिए पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के विवादास्पद ब्लॉक शामिल हैं।

Facebook, जिसकी म्यांमार में अभद्र भाषा को रोकने में विफल रहने के लिए लंबे समय से आलोचना की गई थी, ने कहा कि तख्तापलट ने ऑफ़लाइन नुकसान के जोखिम को बढ़ा दिया और मानवाधिकारों के उल्लंघन के इतिहास ने सत्तारूढ़ सेना या Tatmadaw पर प्रतिबंध लगाने में योगदान दिया।

Alphabet की YouTube से पूछने पर, कि क्या इसने तालिबान पर बैन या प्रतिबंध लगाए हैं, टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। मगर यह भी कहा कि वीडियो-शेयरिंग सेवा हिंसक आपराधिक समूहों के खिलाफ अपने नियमों के एन्फोर्समेंट के लिए "विदेशी आतंकवादी संगठनों" (FTO) को परिभाषित करने के लिए सरकारों पर निर्भर करती है।

दक्षिण एशिया में सुरक्षा पर एक शोधकर्ता और एडिनबर्ग विश्वविद्यालय में डॉक्टरेट के उम्मीदवार मोहम्मद सिनान सियेच ने कहा, "तालिबान कुछ हद तक अंतरराष्ट्रीय संबंधों के स्तर पर एक स्वीकृत खिलाड़ी है।" शोधकर्ता ने समूह के साथ चीन और संयुक्त राज्य अमेरिका की बातचीत की ओर इशारा किया। "अगर वह मान्यता आती है, तो Twitter या Facebook जैसी कंपनी के लिए व्यक्तिपरक निर्णय लेने के लिए कि यह समूह खराब है और हम उनकी मेजबानी नहीं करेंगे, इससे जटिलताएं पैदा होंगी"।

Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

पढ़ें: English
Share on Facebook Tweet Share Snapchat Reddit आपकी राय
 
 

ADVERTISEMENT

Advertisement

Advertisement

#ट्रेंडिंग टेक न्यूज़
  1. Cryptocurrency Bill : क्रिप्‍टो में निवेश करने वालों को जेल, जमानत भी नहीं मिलेगी!
  2. Airtel के 99 रुपये के प्लान से बेहतर है Jio का 91 रुपये का रीचार्ज, जानें कैसे?
  3. Ethereum Whale 'Gimli' ने पोर्टफोलियो में 28 अरब Shiba Inu टोकन जोड़े
  4. बैंकों और मर्चेंट्स को Cryptocurrency के बारे में समझाएगी Visa, शुरू की एडवाइजरी सर्विस
  5. Apple AirTags के इस्तेमाल से चोरी हो रही कारें, पुलिस ने लोगों को किया अलर्ट
  6. Crypto बिजनेस के साथ जुड़ेगा कोटक महिंद्रा बैंक, WazirX का एकाउंट खोला
  7. Bitcoin में गिरावट को El Salvador ने फिर किया कैश, खरीदें 150 और Bitcoin
  8. 4K डिस्‍प्‍ले, 3GB रैम और 4 स्‍पीकर्स से लैस Redmi का 75 इंच Smart TV लॉन्‍च
  9. 12GB रैम और स्नैपड्रैगन 888 प्रोसेसर के साथ आएगा Oppo का पहला फोल्डेबल फोन!
  10. COVID-19 वैक्सीन सर्टिफिकेट कैसे करें ऑनलाइन डाउनलोड? ये रहा तरीका...
#ताज़ा ख़बरें
  1. Android 12 के साथ Nokia स्मार्टफोन गीकबेंच पर लिस्ट, जल्द हो सकता है लॉन्च
  2. 64MP कैमरा और 33W फास्ट चार्जिंग के साथ Xiaomi 11 Youth (Vitality Edition) लॉन्च, जानें कीमत
  3. Dimensity 700 प्रोसेसर, 50MP कैमरा और 6000mAh बैटरी के साथ Vivo Y55s 5G लॉन्‍च
  4. क्रिप्टो मार्केट में मामूली उतार-चढ़ाव, Bitcoin और Ether में कुछ नुकसान
  5. 43 और 55 इंच के साथ लॉन्‍च हुए Daiwa 4K UHD स्‍मार्ट TV, जानें कीमत और फीचर्स
  6. Moto Edge X30 के आधिकारिक रेंडर्स आए सामने, दिखी ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप की झलक
  7. Realme C21Y की कीमतों में जल्‍द हो सकती है बढ़ोतरी! जानें नए प्राइस
  8. Elon Musk ने कहा, लेबर की कमी को दूर कर सकता है Tesla Bot
  9. Oppo Reno 7 Pro League of Legends Edition स्पेशल कॉन्टेंट के साथ लॉन्च, ये है कीमत
  10. बैंकों और मर्चेंट्स को Cryptocurrency के बारे में समझाएगी Visa, शुरू की एडवाइजरी सर्विस
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2021. All rights reserved.
गैजेट्स 360 स्टाफ को संदेश भेजें
* से चिह्नित फील्ड अनिवार्य हैं
नाम: *
 
ईमेल:
 
संदेश: *
 
2000 अक्षर बाकी
 
 
 
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com