• होम
  • विज्ञान
  • ख़बरें
  • इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन पर खौफनाक पल! सोयुज स्‍पेसक्राफ्ट से टकराया उल्‍कापिंड, जानें पूरा मामला

इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन पर खौफनाक पल! सोयुज स्‍पेसक्राफ्ट से टकराया उल्‍कापिंड, जानें पूरा मामला

इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन (ISS) में इस बुधवार एक बड़ी घटना हुई। ISS के साथ अटैच्‍ड सोयुज स्‍पेसक्राफ्ट में कूलेंट लीक का पता चलने से हड़कंप वाली स्थिति पैदा हो गई।

इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन पर खौफनाक पल! सोयुज स्‍पेसक्राफ्ट से टकराया उल्‍कापिंड, जानें पूरा मामला

रूसी अधिकारी की ओर से बताया गया है कि सोयुज स्‍पेसक्राफ्ट में कूलेंट लीक की वजह सूक्ष्‍म उल्‍कापिंड हो सकते हैं।

ख़ास बातें
  • रूसी अंतरिक्ष यात्रियों को छोड़नी पड़ी स्‍पेसवॉक
  • सूक्ष्‍म उल्‍कापिंड के टकराने से नुकसान की आशंका
  • नासा और रूसी स्‍पेस एजेंसी मामले पर नजर बनाए हुए हैं
विज्ञापन
इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन (ISS) में इस बुधवार एक बड़ी घटना हुई। ISS के साथ अटैच्‍ड सोयुज स्‍पेसक्राफ्ट (Soyuz spacecraft) में कूलेंट लीक का पता चलने से हड़कंप वाली स्थिति पैदा हो गई। यह एक हैरान करने वाली घटना थी, जिसका किसी को भी अंदाजा नहीं था। इसके कारण रूसी अंतरिक्ष यात्रियों को उनकी स्‍पेसवॉक को भी छोड़ना पड़ा। अब एक रूसी अधिकारी की ओर से बताया गया है कि सोयुज स्‍पेसक्राफ्ट में कूलेंट लीक की वजह सूक्ष उल्‍कापिंड (micrometeorites) हो सकते हैं।  

इसका सीधा मतलब है कि कोई छोटा उल्‍कापिंड सोयुज स्‍पेसक्राफ्ट से टकराया था, जिस कारण कूलेंट लीक हुआ। छोटे उल्‍कापिंड, अंतरिक्ष यानों और उन तमाम मिशनों के लिए खतरा हैं, जो अंतरिक्ष में घूम रहे हैं। स्‍पेस में तैनात सबसे बड़ी दूरबीन, जेम्‍स वेब टेलीस्‍कोप (James Webb Telescope) को भी उल्‍कापिंड की टक्‍कर से नुकसान हो चुका है, हालांकि उसका कोई बड़ा असर टेलीस्‍कोप की क्षमता पर नहीं हुआ है।    

रिपोर्टों के अनुसार, रूसी स्‍पेस एजेंसी रोस्कोस्मोस (Roscosmos) के सर्गेई क्रिकेलेव ने बताया है कि सोयुज एमएस-22 कैप्सूल के रेडिएटर पर उल्कापिंड के गिरने से कूलेंट लीक हुआ हो सकता है। रोस्कोस्मोस के अलावा नासा (Nasa) ने भी बयान जारी कर बताया है कि इस लीक की वजह से आईएसएस या उसमें सवार अंतरिक्ष यात्रियों को कोई खतरा नहीं था। सिर्फ रूसी अंतरिक्ष यात्रियों की स्‍पेसवॉक को स्‍थगित करना पड़ा।  

रूसी अंतरिक्ष एजेंसी की ओर से बताया गया है कि कूलेंट लीक की वजह से सोयुज कैप्सूल की कूलेंट सिस्टम परफॉर्मेंस पर थोड़ा असर हो सकता है, लेकिन यह चालक दल को किसी भी खतरे में नहीं डालेगा। उन्होंने कहा कि सोयुज स्‍पेसक्राफ्ट सुरक्षित है और आईएसएस पर मौजूद अंतरिक्ष यात्रियों के लिए भी कोई खतरा नहीं है। 

नासा ने भी कुछ ऐसा ही कहा है। बताया है कि रोस्कोस्मोस, सोयुज स्‍पेसक्राफ्ट के टेंपरेंचर की बारीकी से निगरानी कर रही है। अभी सबकुछ ठीक है। आईएसएस के कैनाडर्म 2 रोबोटिक आर्म की मदद से सोयुज के बाहरी ढांचे के निरीक्षण का काम चल रहा है। कूलेंट लीक का पता तब चला, जब सर्गेई प्रोकोपयेव और दिमित्री पेटेलिन नाम के दो अंतरिक्ष यात्रियों की स्‍पेसवॉक के लिए स्पेससूट तैयार किए जा रहे थे। 
 

Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

प्रेम त्रिपाठी

प्रेम त्रिपाठी Gadgets 360 में चीफ सब एडिटर हैं। 10 साल प्रिंट मीडिया ...और भी

संबंधित ख़बरें

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. Vivo T3x 5G में मिलेगी 6,000mAh बैटरी, होगा सबसे स्लिम फोन
  2. मंगल ग्रह पर जाने वाला Starship रॉकेट कितना बड़ा होगा? Elon Musk ने बताया
  3. 126KM रेंज के साथ OSM Stream City Qik इलेक्ट्रिक थ्री-व्हीलर लॉन्च, 15 मिनट में होगा फुल चार्ज
  4. OnePlus Pad 2 की लॉन्च टाइमलाइन लीक, जानें कब पेश होगा नया OnePlus टैबलेट
  5. Oppo Reno 12 सीरीज Vivo S19, Huawei Nova 13, Honor 200 के साथ जून में होगी लॉन्च!
  6. क्‍या है एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल? सेना ने 17 हजार फीट की ऊंचाई पर किया ट्रायल
  7. Electric Scooter Price Hike: Bajaj, TVS, Ather और Hero Vida के ई-स्कूटर हुए महंगे, 15 अप्रैल से Ola भी बढ़ाएगा कीमत
  8. MI Vs CSK Live: मुंबई इंडियंस Vs चेन्नई सुपर किंग्स का IPL मैच कुछ देर में, देखें फ्री!
  9. Black Shark Ring सिंगल चार्ज में चलेगी 180 दिन! टीजर आउट
  10. WhatsApp में AI की एंट्री, मिलेगा हर सवाल का जवाब! ऐसे करें इस्तेमाल
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »