हमारे पूर्वजों की हड्डियों में मिले 50 हजार साल पुराने वायरस!

इससे पहले वैज्ञानिक मानते आए थे कि संक्रामक रोगों ने निएंडरथल के खात्मे में अहम भूमिका निभाई होगी। लेकिन इसके लिए शोधकर्ताओं के पास कोई पुख्ता प्रमाण नहीं थे।

हमारे पूर्वजों की हड्डियों में मिले 50 हजार साल पुराने वायरस!

निएंडरथल के विलुप्त होने में कई कारक शामिल रहे होंगे।

ख़ास बातें
  • निएंडरथल को आधुनिक मानव का सबसे करीबी माना जाता है।
  • 50 हजार साल पहले जीवित रहे निएंडरथल की हड्डियों में वायरस।
  • निएंडरथल के विलुप्त होने में कई कारक शामिल रहे होंगे।
विज्ञापन
हमारे पूर्वजों के बारे में वैज्ञानिक लगातार पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि आखिर वे कैसे विलुप्त हो गए थे। निएंडरथल को आधुनिक मानव का सबसे करीबी माना जाता है। लेकिन निएंडरथल विलुप्त हो गए थे। अब शोधकर्ताओं को 50 हजार साल पुराने वायरस के बारे में कुछ सबूत मिले हैं। ये सबूत 50 हजार साल पहले जीवित रहे निएंडरथल की हड्डियों में मिले हैं। 

इससे पहले वैज्ञानिक मानते आए थे कि संक्रामक रोगों ने निएंडरथल के खात्मे में अहम भूमिका निभाई होगी। लेकिन इसके लिए शोधकर्ताओं के पास कोई पुख्ता प्रमाण नहीं थे। क्योंकि प्राचीन डीएनए को निकालना और उसे एक सीक्वेंस में रखना बहुत ही कठिन काम था। अब आणविक जीवविज्ञानी मार्सेलो ब्रओन्स के नेतृत्व में एक नई स्टडी की गई है। रूस की Chagyrskaya गुफा में निएंडरथल के जो कंकाल मिले थे, उनके DNA सैम्पलों का विश्लेषण किया गया है। 

इसके बाद ब्रिओन्स की टीम ने पाया कि हड्डियों में कुछ ऐसे टुकड़े मिले हैं जो आधुनिक युग के तीन वायरस से मेल खाते हैं। इनमें एडिनोवायरस (कॉमन कोल्ड), हर्पीज वायरस (कोल्ड सोर), और पैपिलोमावायरस (जेनिटल वार्ट्स) शामिल हैं। 

हालांकि अभी यह खोज बहुत ही शुरुआती है। वायरस के जो टुकड़े इनमें मिले हैं, वे सुझाते हैं कि इनमें पुराने वायरस रहे होंगे। शोध में यह भी कहा गया है कि निएंडरथलों पर इन वायरस का क्या प्रभाव रहा होगा, अभी यह नहीं कहा जा सकता है। लेकिन इस खोज ने इस संबंध में आगे जांच पड़ताल करने के दरवाजे खोल दिए हैं। इसी के साथ यह खोज उन सभी थ्योरियों को कमजोर कर देती है, जो कहती आई हैं कि निएंडरथल का खात्मा वातावरण के बदलावों या मानव के मानव से संघर्ष के कारण हुआ होगा। 

शोधकर्ता इस बात को भी स्वीकार करते हैं कि निएंडरथल के विलुप्त होने में कई कारक शामिल रहे होंगे। हड्डियों में खोजे गए इन वायरस और अन्य जिम्मेदार कारकों के बारे में आगे होने वाली स्टडी हमें उस सत्य के और करीब ले जाएगी जो मानव प्रजाति के इतिहास की बहुत बड़ी घटना से संबंध रखता है। 
 
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

हेमन्त कुमार

हेमन्त कुमार Gadgets 360 में सीनियर सब-एडिटर हैं और विभिन्न प्रकार के ...और भी

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

विज्ञापन

#ताज़ा ख़बरें
  1. OnePlus Nord CE4 Lite फोन Snapdragon 695 प्रोसेसर, 5500mAh बैटरी के साथ लॉन्च, कीमत 19,999 रुपये से शुरू
  2. Moto Tag : मोटोरोला लॉन्‍च करेगी ट्रैकिंग डिवाइस, खोया सामान ढूंढने में मिलेगी मदद, Apple से मुकाबला!
  3. BMW का इलेक्ट्रिक स्कूटर CE 04 अगले महीने होगा भारत में लॉन्च, 129 किलोमीटर की रेंज
  4. Xiaomi Smart Astronomical Telescope: ब्रह्मांड के तारों को हाई-डेफिनेशन में कैप्चर करता है शाओमी का टेलीस्कोप, जानें कीमत
  5. 50MP Sony कैमरा, 8GB रैम वाले iQoo Z9 को Rs. 3,000 सस्ता खरीदने का मौका, जानें पूरी डील
  6. Hero MotoCorp की मोटरसाइकिल्स और स्कूटर्स अगले महीने से हो जाएंगे महंगे
  7. Lenovo का Legion टैबलेट जल्द होगा भारत में लॉन्च, 6,550mAh की बैटरी
  8. 28 जून को भारत आ रहा है Realme C61 स्मार्टफोन, लॉन्च से पहले लीक हुई कीमत
  9. Oppo के नए स्मार्टफोन में हो सकता है iPhone 12 जैसा कैमरा मॉड्यूल
  10. Ray-Ban Meta स्मार्ट ग्लासेस से अब कर पाएंगे 3 मिनट तक लंबा वीडियो रिकॉर्ड, रिपोर्ट में हुआ खुलासा
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »