• होम
  • electric vehicle
  • फ़ीचर
  • भारतीयों को पसंद आ रही हैं लंबी रेंज वाली इलेक्ट्रिक कारें: टाटा मोटर्स

भारतीयों को पसंद आ रही हैं लंबी रेंज वाली इलेक्ट्रिक कारें: टाटा मोटर्स

Gadgets 360 से अंकित शर्मा और नितेश पपनोई को इस डेवलपमेंट और Tata Motors की भविष्य की योजनाओं के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए पैसेंजर इलेक्ट्रिक व्हीकल, टाटा मोटर्स के वाइस प्रेसिडेंट और चीफ प्रोडक्ट ऑफिसर श्री आनंद कुलकर्णी (Mr. Anand Kulkarni) के साथ बैठने का मौका मिला।

भारतीयों को पसंद आ रही हैं लंबी रेंज वाली इलेक्ट्रिक कारें: टाटा मोटर्स

टाटा मोटर्स पैसेंजर इलेक्ट्रिक व्हीकल के वाइस प्रेसिडेंट और चीफ प्रोडक्ट ऑफिसर श्री आनंद कुलकर्णी

विज्ञापन
भारत में इलेक्ट्रिक कार मार्केट में प्रतिस्पर्धा तेजी से गर्मा रही है। आपको लगभग हर प्राइस सेगमेंट में EV कारें आसानी से मिल जाएंगी। अब तक, टाटा मोटर्स इलेक्ट्रिक वाहन (EVs) बाजार में लीड कर रहे हैं, जिसकी इलेक्ट्रिक व्हीकल मार्केट में लगभग 70 से 75 प्रतिशत हिस्सेदारी है। इस सेगमेंट में अपनी पकड़ बनाए रखने के लिए कंपनी ने साल 2024 की शुरुआत Punch.ev के साथ की। टाटा मोटर्स की सहायक कंपनी टाटा पैसेंजर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी लिमिटेड ने acti.ev (एडवांस्ड कनेक्टेड टेक-इंटेलिजेंट इलेक्ट्रिक व्हीकल) नाम से अपना पहला प्योर इलेक्ट्रिक प्लेटफॉर्म पेश किया है। इलेक्ट्रिक Punch इस ऑल-इलेक्ट्रिक आर्किटेक्चर पर बना पहला मॉडल है। कंपनी के पास Punch, Sierra, Harrier और Curvv सहित भविष्य के इलेक्ट्रिक कार मॉडलों पर इस प्लेटफॉर्म का उपयोग करने की क्षमता है।

Gadgets 360 से अंकित शर्मा और नितेश पपनोई ने Punch.ev के लॉन्च और Tata Motors के फ्यूचर प्लान के बारे में कुछ अहम और दिलचस्प डिटेलस हासिल करने के लिए पैसेंजर इलेक्ट्रिक व्हीकल, टाटा मोटर्स के वाइस प्रेसिडेंट और चीफ प्रोडक्ट ऑफिसर श्री आनंद कुलकर्णी (Mr. Anand Kulkarni) के साथ बातचीत की। यहां हमने स्पष्टता के लिए कुछ प्रतिक्रियाओं को एडिट किया है।

Ankit Sharma & Nitesh Papnoi: Tata Punch 2024 में कंपनी की पहली इलेक्ट्रिक कार है। ICE वर्जन की तुलना में इस नई लाइनअप (Acti.ev) में कितने मॉडिफिकेशन और बदलाव किए गए हैं?

Anand Kulkarni: Tata Punch EV में कई बड़े मॉडिफिकेशन हुए हैं, इसे Acti.ev नाम के समर्पित फुल इलेक्ट्रिक प्लेटफॉर्म पर लॉन्च किया गया है। इसके ऊपर बना कोई भी ईवी चार लेयर से लैस होगा। पहली लेयर पावरट्रेन है, जो मोटर, गियरबॉक्स, बैटरी और पावर इलेक्ट्रॉनिक्स है। दूसरी लेयर मैकेनिकल प्लेटफॉर्म से संबंधित है, जिसमें सस्पेंशन, फ्लोर प्लान और अटैचमेंट जैसी विशेषताएं शामिल हैं। इसके अलावा, तीसरी लेयर E&D आर्किटेक्चर की है, जिसका मतलब इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स है, जिनमें इन्फोटेनमेंट, टेलीमैटिक्स यूनिट इस प्रकार की चीजें हैं।

वहीं, आखिरी लेयर क्लाउड आर्किटेक्चर है, जो सब कुछ जोड़ता है और कनेक्टेड कार फीचर्स को आपके लिए लाता है। तो, इन चार लेयर्स में सबसे अहम लेयर फ्लोर प्लान है और जिस तरह से सस्पेंशन जुड़े हुए हैं। क्योंकि यहीं पर कार वास्तव में अपने पैरों पर खड़ी होती है। अब, यह एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें एक महत्वपूर्ण बदलाव आया है। क्योंकि पुराने ICE प्लेटफॉर्म में, इसे बैटरी के आसपास डिजाइन नहीं किया गया है। इसलिए, हमेशा कुछ समझौते होते हैं। क्योंकि आपको बैटरियों को फ्लोर के चारों ओर बिछाना होता है और आप पर्याप्त स्थानों की सुरक्षा नहीं कर सकते।

प्योर ईवी आर्किटेक्चर में, हमने जो किया है वह बैटरी के आसपास वाहन या फ्लोर प्लान को डिजाइन करना है। और परिणामस्वरूप, बैटरियों के लिए पर्याप्त से अधिक जगह निकालना था। इसके लिए सबसे पहले हमने बैटरी के लिए जगह बनाई। फिर हमें यह भी देखना था कि दुर्घटना की स्थिति में कार कैसे टिकेगी। ऐसे में स्ट्रक्चर, रूप और इसके चारों ओर की कठोरता को डिजाइन करना पड़ा। तब हमने यह भी कहा था कि इस आर्किटेक्चर का उपयोग मल्टीपल ड्राइव कॉन्फिगरेशन के लिए किया जाएगा।

Ankit Sharma & Nitesh Papnoi: नए ईवी प्लेटफॉर्म पर Tata Punch.ev के लॉन्च के साथ, क्या ग्राहक अपनी कारों के भीतर आंतरिक स्थान में कमी की उम्मीद कर सकते हैं?

Anand Kulkarni: बिल्कुल नहीं! दरअसल, ग्राहक टाटा पंच ईवी में बढ़े हुए इंटीरियर स्पेस का आनंद ले सकते हैं। कुछ कारों में फ्रंट व्हील ड्राइव हो सकता है, कुछ कारों में रियर व्हील ड्राइव हो सकता है और कुछ कारों में ऑल व्हील ड्राइव हो सकता है। इसलिए, हमें इसे ध्यान में रखते हुए जगह उपलब्ध करानी पड़ी। फिर, जब हमने ये सब कर लिया तो हमने सोचा कि हम और अधिक जगह कैसे प्रदान करें? क्योंकि एक ग्राहक के लिए वह सबसे महत्वपूर्ण बात है। देखिए स्पेस दो प्रकार का होता है, एक है स्टोरेज, मतलब जहां हम अपना सामान या अन्य चीजें रखते हैं। दूसरा, जहां हम बैठते हैं और जहां हम आरामदायक महसूस करना चाहते हैं, जो कि केबिन के अंदर होता है। तो, फिर हमने देखा कि हम उस स्थान को और अधिक आरामदायक कैसे बना सकते हैं और अधिक स्टोरेज स्पेस कैसे दे सकते हैं।

इस प्रकार, फ्रंट स्टोरेज के लिए फ्रंक का समावेश, समझौताहीन बूट स्पेस और इंफोटेनमेंट लेयर पर फोकस आवश्यक विचार थे। गैजेट, सूचना और कार में बाहरी दुनिया के सहज इंटिग्रेशन के लिए ग्राहकों की इच्छा को पहचानते हुए, स्क्रीन, HMIs और Arcade.ev ऐप सूट जैसे फीचर्स को Tata Punch.ev में एकीकृत किया गया।

Ankit Sharma & Nitesh Papnoi: क्या टाटा पंच ईवी को पांच स्टार सेफ्टी रेटिंग से सम्मानित किया गया है? या क्या इसे फुल इलेक्ट्रिक प्लेटफॉर्म पर लॉन्च करने के निर्णय से इसके सेफ्टी फीचर्स पर असर पड़ा है?

Anand Kulkarni: वास्तव में, इलेक्ट्रिक वाहन में सुरक्षा पहलू मजबूत रहता है, क्योंकि बैटरी को शामिल करने से मास में बढ़ोतरी होती है। इसलिए, बड़े पैमाने पर बढ़ोतरी के बावजूद, सेफ्टी पर कोई समझौता नहीं किया गया है। हमने अभी तक GNCAP या Bharat NCAP के लिए कारें नहीं भेजी हैं। इसलिए हम यह नहीं कह सकते कि यह पांच स्टार है, लेकिन ऐसा होने जा रहा है और हम कारों को टेस्टिंग के लिए भेजने जा रहे हैं। [इलेक्ट्रिक कार का] डिजाइन उन आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम होने के अनुसार बनाया गया है, लेकिन जब तक सर्टिफिकेट नहीं आ जाता, हम कुछ नहीं कह सकते। टाटा अपनी मजबूत गाड़ियों के लिए जाना जाता है और हमने टाटा पंच ईवी को भी इसी रणनीति पर डिजाइन किया है।

Ankit Sharma & Nitesh Papnoi: टाटा मोटर्स, देश में इलेक्ट्रिक कारों की बिक्री में अग्रणी होने के नाते, छोटी दूरी और लंबी दूरी दोनों की इलेक्ट्रिक कारें पेश करती है। खरीदारों द्वारा कौन सी रेंज अधिक पसंद की जाती है, छोटी रेंज या लंबी रेंज?

Anand Kulkarni: लंबी दूरी के ऑप्शन भारतीय ग्राहकों के बीच पॉपुलर हो रहे हैं। उदाहरण के लिए Tiago में हम 19 kWh की बैटरी दे रहे हैं, जो लगभग 170 किमी चलती है और फिर, हम 24 kWh की बैटरी पेश करते हैं जो 210-220 किमी चलती है। हर कोई 24 kWh की बैटरी खरीदना पसंद कर रहा है। इसी तरह Tata Nexon को भी 30 kWh और 40 kWh बैटरी पैक में पेश किया गया है और 80% लोग 40 kWh की बैटरी चुनते हैं।

Ankit Sharma & Nitesh Papnoi: कंपनी का प्राथमिक फोकस क्या है? क्या इसका उद्देश्य ईवी कारों की रेंज का विस्तार करना है या फास्ट चार्जिंग तकनीक को आगे बढ़ाने पर जोर है?

Anand Kulkarni: एक कंपनी के रूप में, हम अपनी तकनीक को फास्ट चार्जिंग और एक्सटेंडेड रेंज दोनों के लिए तैयार रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं। विस्तारित रेंज विकसित करना अपेक्षाकृत आसान है, क्योंकि बुनियादी ढांचे के लिए विभिन्न स्टेकहोल्डर्स के साथ सहयोग और को-डेवलपमेंट की आवश्यकता होती है। हमने टाटा पावर के सहयोग से तीन साल पहले बुनियादी ढांचे के विकास की शुरुआत करते हुए शुरुआती कदम पहले ही उठा लिए हैं। वर्तमान में, सड़कों पर लगभग 4500 फास्ट चार्जिंग पॉइंट हैं, जिनका सक्रिय रूप से उपयोग किया जाता है। हालांकि, यह मानते हुए कि यह पर्याप्त नहीं हो सकता है, हमने हाल ही में चार्ज पॉइंट ऑपरेटरों का एक सहयोगी नेटवर्क स्थापित किया है। हमने इन ऑपरेटरों को वाहनों के ऑपरेशनल पैटर्न, उनके लोकेशन और ऑप्टिमल चार्जिंग आवश्यकताओं पर हमारी व्यापक जानकारी का उपयोग करके सहयोग करने और डेटा शेयर करने के लिए आमंत्रित किया। ये डेटा प्रदान करके हमारा लक्ष्य अतिरिक्त चार्जिंग बुनियादी ढांचे की स्थापना का सपोर्ट और सुविधा प्रदान करना है। यह पहल चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर को आगे बढ़ाने के लिए हमारी चल रही प्रतिबद्धता को दर्शाती है।

Ankit Sharma & Nitesh Papnoi: इलेक्ट्रिक कार में सबसे बड़ा खर्च बैटरी का होता है। टाटा मोटर्स कार बैटरी के संबंध में लोगों को क्या आश्वासन दे रही है?

Anand Kulkarni: हां, आप सही हैं। हालांकि, हम अपनी कार बैटरियों को सर्टिफाई या वारंटी से लैस बना रहे हैं। वारंटी महत्वपूर्ण है। बैटरी पैक की वारंटी 8 साल या 1,60,000 किलोमीटर के लिए है। इस अवधि के पीछे तर्क यह है कि एक भारतीय ग्राहक के लिए औसत दैनिक ड्राइविंग लगभग 50 से 60 किलोमीटर है, जो प्रति वर्ष लगभग 20,000 किलोमीटर है। LFP रसायन बैटरी के लिए 2000 साइकिल के साइकिल लाइफ और 300 किलोमीटर प्रति साइकिल की रियर-लाइफ रेंज को ध्यान में रखते हुए, बैटरी का जीवनकाल लगभग 6 लाख किलोमीटर है। सेकंड ओनर के मामले में भी, कार बेचने पर बैटरी वारंटी ट्रांसफर होती है और किसी भी आकस्मिकता की स्थिति में बैटरी की लागत इंश्योरेंस के अंतर्गत कवर की जाती है।
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

अंकित शर्मा

अंकित शर्मा Gadgets 360 में डिप्टी एडिटर है। यह एक दशक से टेक्नोलॉजी और ...और भी

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. Ola Electric के सबसे अफोर्डेबल इलेक्ट्रिक स्कूटर की इस महीने शुरू होगी डिलीवरी
  2. Google Pixel 8a में हो सकते हैं ब्लू और ग्रीन कलर्स के ऑप्शन, लीक हुआ रिटेल बॉक्स 
  3. Poco Pad: पोको का पहला टैबलेट 33W चार्जिंग सपोर्ट और 8MP कैमरा के साथ आएगा! मिला सर्टिफिकेशन
  4. HMD Pulse Pro के लॉन्च से पहले ही लीक हुई कीमत, डिजाइन और स्पेसिफिकेशन का भी खुलासा
  5. Blackview Hero 10 हो सकता है सबसे सस्ता फोल्डेबल स्मार्टफोन
  6. बड़ा स्कैम! इन मीमकॉइन प्रोजेक्ट को छोड़कर भाग गए डेवलपर्स, निवेशकों को लगी करोड़ों की चपत
  7. Redmi Buds 5A भारत में लॉन्च, दमदार फीचर्स के साथ 30 घंटे चलेगी बैटरी, कीमत 1500 रुपये से भी कम
  8. Realme C65 5G MediaTek Dimensity 6300 SoC के साथ इस सप्ताह होगा लॉन्च 
  9. 108MP कैमरा, 8GB रैम, 5000mAh बैटरी के साथ itel S24 स्‍मार्टफोन लॉन्‍च, जानें प्राइस
  10. OnePlus Nord CE 3 पर डिस्काउंट की पेशकश, जानें प्राइस, स्पेसिफिकेशंस
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »