• होम
  • विज्ञान
  • ख़बरें
  • New Year 2024 in Space : अंतरिक्ष में एक दिन में 16 बार आया न्‍यू ईयर! क्‍यों हुआ ऐसा? जानें

New Year 2024 in Space : अंतरिक्ष में एक दिन में 16 बार आया न्‍यू ईयर! क्‍यों हुआ ऐसा? जानें

New Year 2024 in Space : यह अनोखी घटना धरती से 400 किलोमीटर ऊपर इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन यानी आईएसएस (ISS) पर हुई।

New Year 2024 in Space : अंतरिक्ष में एक दिन में 16 बार आया न्‍यू ईयर! क्‍यों हुआ ऐसा? जानें

अंतरिक्ष यात्रियों के सामने 16 बार सूर्योदय और सूर्यास्त होता है।

ख़ास बातें
  • स्‍पेस स्‍टेशन पर मौजूद 7 अंतरिक्ष यात्रियों ने 16 बार न्‍यू ईयर देखा
  • हर 45 मिनट में सूर्योदय देखते हैं अंतरिक्ष यात्री
  • 24 घंटे में 16 बार सूर्योदय और सूर्यास्‍त दिखाई देता है
विज्ञापन
New Year 2024 in Space : नए साल का आगाज हो गया है। रात जैसे ही घड़ी में 12 बजे, दुनिया नए साल के जश्‍न में डूब गई। लेकिन पृथ्‍वी से सैकड़ों किलोमीटर ऊपर अंतरिक्ष में एक के बाद एक 16 बार नया साल देखा गया। यह अनोखी घटना धरती से 400 किलोमीटर ऊपर इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन यानी आईएसएस (ISS) पर हुई। स्‍पेस स्‍टेशन पर मौजूद 7 अंतरिक्ष यात्रियों ने 16 बार न्‍यू ईयर देखा! यह सब कैसे मुमकिन हुआ, आइए जानते हैं। 

इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन लगभग 7.6 किलोमीटर प्रति सेकंड की रफ्तार से पृथ्वी की परिक्रमा करता है। इस दौरान यह 24 घंटों में 16 बार पृथ्वी का चक्‍कर लगाता है। यानी वहां रह रहे अंतरिक्ष यात्रियों के सामने 16 बार सूर्योदय और सूर्यास्त होता है।  
आईएसएस का कक्षीय पथ (orbital path) हमारी पृथ्‍वी की 90 फीसदी से ज्‍यादा आबादी कवर करता है, जिस वजह से वैज्ञानिकों को बार-बार नया साल एक्‍सपीरियंस करने का मौका मिलता है। हालांकि वह सेलिब्रेशन एक ही बार करते हैं। 
 

ISS पर कब मनाया जाता है न्‍यू ईयर 

ISS पर यूनिवर्सल कोऑर्डिनेटेड टाइम का पालन किया जाता है, जिसे ग्रीनविच मीन टाइम भी कहा जाता है। यह टाइम, सेंट्रल यूरोपियन टाइम से एक घंटा और भारत के समय से साढ़े पांच घंटा पीछे है। इस हिसाब से इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन पर भारतीय समय के अनुसार 1 जनवरी की सुबह 5.30 बजे नया साल सेलिब्रेट किया गया होगा। 

एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार, पृथ्वी पर एक दिन में आमतौर पर 12 घंटे रोशनी और 12 घंटे अंधेरा होता है। वहीं स्‍पेस में अंतरिक्ष यात्रियों को 45 मिनट का दिन और फिर 45 मिनट का अंधेरा मिलता है। ऐसा लगातार 16 बार होता है। यही वजह है कि न्‍यू ईयर पर भी अंतरिक्ष यात्री 16 बार सूर्योदय देखते हैं। आईएसएस पर अंतरिक्ष यात्रियों की एक टीम हमेशा तैनात रहती है। 
 
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

प्रेम त्रिपाठी

प्रेम त्रिपाठी Gadgets 360 में चीफ सब एडिटर हैं। 10 साल प्रिंट मीडिया ...और भी

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. फ्लैगशिप कैमरा फीचर्स के साथ आएगा OnePlus का अपकमिंग फ्लिप फोन! Samsung, Motorola को देगा टक्कर?
  2. Itel Super Guru 4G फीचर फोन YouTube और UPI सपोर्ट के साथ भारत में हुआ लॉन्च, कीमत 1,799 रुपये
  3. AI Girlfriend: कौन होती है ये वर्चुअल गर्लफ्रेंड? कितनी बड़ी है AI-Dating की दुनिया? जानें सब कुछ...
  4. Nothing Ear, Nothing Ear A TWS ईयरफोन हुए 45dB ANC के साथ लॉन्च, जानें कीमत और फीचर्स
  5. 6000mAh बैटरी के साथ Samsung Galaxy M35 जल्‍द होगा भारत में लॉन्‍च, सपोर्ट पेज लाइव!
  6. Redmi 13 5G की जानकारी सामने आई, भारत में जल्द होगा लॉन्च
  7. Google Lay Off 2024: गूगल फिर निकालेगी कर्मचारी, इन विभागों पर होगा असर
  8. HMD ने लॉन्‍च किया ‘बोरिंग’ फोन, सिर्फ कॉल और टेक्‍स्‍ट कर पाएंगे, इंटरनेट का नहीं है सपोर्ट
  9. Article 370 OTT Release date : ‘धारा 370’ पर बनी यामी गौतम की फ‍िल्‍म कल हो रही इस ओटीटी पर रिलीज, जानें डिटेल
  10. Xiaomi 15 सीरीज पर काम शुरू! इस महीने होगी इंटरनल टेस्टिंग
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »