• होम
  • विज्ञान
  • ख़बरें
  • धरती से 400 किलोमीटर ऊपर थे साइंटिस्‍ट, सामने दिखी ‘जानलेवा’ चुनौती, उठाना पड़ा यह कदम, जानें

धरती से 400 किलोमीटर ऊपर थे साइंटिस्‍ट, सामने दिखी ‘जानलेवा’ चुनौती, उठाना पड़ा यह कदम, जानें

International Space Station : स्‍पेस स्‍टेशन कक्षीय मलबे (orbital debris) की चपेट में आने से बच गया। यह सब तब हुआ, जब एक कार्गो शिप, स्‍पेस स्‍टेशन में पहुंचने वाला था।

धरती से 400 किलोमीटर ऊपर थे साइंटिस्‍ट, सामने दिखी ‘जानलेवा’ चुनौती, उठाना पड़ा यह कदम, जानें

स्‍पेस में आने वाला मलबा सैटेलाइट्स के लिए चिंता की बड़ी बात है।

ख़ास बातें
  • इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन पर बाल-बाल बचे साइ‍ंटिस्‍ट
  • कक्षीय मलबे की चपेट में आने से बचा स्‍पेस स्‍टेशन
  • ऊंचाई में बदलाव कर स्‍पेस स्‍टेशन की टक्‍कर रोकी गई
विज्ञापन
धरती से 400 किलोमीटर ऊपर अंतरिक्ष में तैनात होकर पृथ्‍वी का चक्‍कर लगा रहा इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन (ISS) अंतरिक्ष यात्रियों के लिए उनका दूसरा घर है। स्‍पेस स्‍टेशन में वैज्ञानिकों की एक टीम हमेशा तैनात रहती है और वहां से कई तरह के स्‍पेस मिशनों को पूरा करती है। धरती का चक्‍कर लगाते समय स्‍पेस स्‍टेशन को कई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। सबसे बड़ी चुनौती होती है खत्‍म हो चुके सैटेलाइट्स के मलबे की। ये मलबा अंतरिक्ष में घूमता रहता है और कई बार स्‍पेस स्‍टेशन के सामने आ जाता है। हाल में ऐसा ही हुआ। स्‍पेस स्‍टेशन कक्षीय मलबे (orbital debris) की चपेट में आने से बच गया। यह सब तब हुआ, जब एक कार्गो शिप, स्‍पेस स्‍टेशन में पहुंचने वाला था।   

न्‍यूज एजेंसी TASS ने रूसी स्‍पेस एजेंसी रोस्कोस्मोस को हवाले से यह इन्‍फर्मेशन दी है। बताया जाता है कि मलबे की टक्‍कर से बचने के लिए आईएसएस की कक्षा को 900 मीटर तक ऊपर कर दिया गया। शुरुआती आंकड़ों के अनुसार, स्‍पेस स्‍टेशन की कुल ऊंचाई पृथ्‍वी से 417.98 किलोमीटर हो गई थी। 

हालांकि नासा ने इस बारे में कुछ नहीं कहा है। स्‍पेस में आने वाला मलबा सैटेलाइट्स के लिए चिंता की बड़ी बात है। इस साल ऐसा दूसरी बार हुआ है जब मलबे की टक्‍कर से बचने के लिए आईएसएस की कक्षा में बदलाव किया गया। आंकड़े बताते हैं कि साल 1999 के बाद से पिछले साल दिसंबर तक आईएसएस की कक्षा में 32 बार बदलाव किया गया है, ताकि उसे अंतरिक्ष में मलबे के साथ टक्‍कर होने से बचाया जा सके। 

इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन कई देशों का जॉइंट प्रोजेक्‍ट है। इसमें अमेरिका और रूस भी शामिल हैं। आईएसएस पर अंतरिक्ष यात्रियों का एक दल हमेशा तैनात रहता है और विज्ञान से जुड़े प्रयोगों व दूसरे कामों को पूरा करता है। आईएसएस पूरी पृथ्‍वी का चक्‍कर लगाता है। यह जिन देशों के ऊपर से गुजरता है, उसकी जानकारी शेयर करता है। भविष्‍य में स्‍पेस स्‍टेशन को डीऑर्बिट यानी हटाने की तैयारी है। 

नासा कह चुकी है क‍ि आईएसएस को साल 2030 और 2031 के बीच हटा दिया जाएगा। नासा का कहना है कि वह  इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन के बिजनेस से बाहर निकल जाएगी। 
 
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

प्रेम त्रिपाठी

प्रेम त्रिपाठी Gadgets 360 में चीफ सब एडिटर हैं। 10 साल प्रिंट मीडिया ...और भी

संबंधित ख़बरें

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. OnePlus Pad 2 की लॉन्च टाइमलाइन लीक, जानें कब पेश होगा नया OnePlus टैबलेट
  2. Oppo Reno 12 सीरीज Vivo S19, Huawei Nova 13, Honor 200 के साथ जून में होगी लॉन्च!
  3. क्‍या है एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल? सेना ने 17 हजार फीट की ऊंचाई पर किया ट्रायल
  4. Electric Scooter Price Hike: Bajaj, TVS, Ather और Hero Vida के ई-स्कूटर हुए महंगे, 15 अप्रैल से Ola भी बढ़ाएगा कीमत
  5. MI Vs CSK Live: मुंबई इंडियंस Vs चेन्नई सुपर किंग्स का IPL मैच कुछ देर में, देखें फ्री!
  6. Black Shark Ring सिंगल चार्ज में चलेगी 180 दिन! टीजर आउट
  7. WhatsApp में AI की एंट्री, मिलेगा हर सवाल का जवाब! ऐसे करें इस्तेमाल
  8. LSG Vs KKR Live: लखनऊ और कोलकाता के बीच IPL मैच कुछ ही देर में, यहां देखें फ्री!
  9. आ..छी..! बेबी तारों को भी आती है ‘छींक’, नई रिसर्च में वैज्ञानिकों ने किया दावा
  10. Poco F6 होगा रीब्रांडेड Redmi Turbo 3, भारत में सबसे पहले होगा लॉन्च! यहां हुआ खुलासा
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »