• होम
  • विज्ञान
  • ख़बरें
  • 15 करोड़ साल पुराना ‘खूंखार’ समुद्री जीव आया वैज्ञानिकों के सामने! 2 मीटर लंबी खोपड़ी से मिले सुराग

15 करोड़ साल पुराना ‘खूंखार’ समुद्री जीव आया वैज्ञानिकों के सामने! 2 मीटर लंबी खोपड़ी से मिले सुराग

वैज्ञानिकों को इंग्‍लैंड के तट पर एक ऐसे समुद्री जीव की खोपड़ी मिली है, जो आज से करीब 15 करोड़ साल पहले अस्तित्‍व में था।

15 करोड़ साल पुराना ‘खूंखार’ समुद्री जीव आया वैज्ञानिकों के सामने! 2 मीटर लंबी खोपड़ी से मिले सुराग

यह खोपड़ी ज्‍यादातर मनुष्‍यों से भी लंबी है। इसी से कल्‍पना की जा सकती है कि प्लियोसॉर कितना विशालकाय जीव था।

ख़ास बातें
  • ब्रिटेन में मिला समुद्री जीव का जीवाश्‍म
  • 15 करोड़ साल पहले पाया जाता था जीव
  • समुद्र तट के किनारे हुई खोज
विज्ञापन
वैज्ञानिकों को इंग्‍लैंड के तट पर एक ऐसे समुद्री जीव की खोपड़ी मिली है, जो आज से करीब 15 करोड़ साल पहले अस्तित्‍व में था। यह खोपड़ी नुमा जीवाश्‍म प्लियोसॉर (pliosaur) का है। 2 मीटर लंबा जीवाश्‍म अबतक खोजे गए प्लियोसॉर के सभी नमूनों से सबसे संपूर्ण है। वैज्ञानिकों को लगता है कि इससे प्लियोसॉर के बिहेवियर और साइकोलॉजी के बारे में जरूरी जानकारी मिलेगी। प्लियोसॉर समुद्र में रहने वाला एक खूंखार रेप्‍टाइल था, जो एक चुटकी में अपने शिकार को मसल डालता था। 

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, यह खोपड़ी ज्‍यादातर मनुष्‍यों से भी लंबी है। इसी से कल्‍पना की जा सकती है कि प्लियोसॉर कितना विशालकाय जीव था। रिपोर्ट कहती है कि प्लियोसॉर के सामने के दांत लंबे और उस्‍तरे जैसे नुकीले थे। वह काफी घातक और मांस को काट सकते थे। इस वजह से प्लियोसॉर का कुशल शिकारी बन गया था। गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार, जीवाश्‍म की खूबी है कि इसके दर्जनों नुकीले दांत के अवशेष भी अभी बाकी हैं। 

प्लियोसॉर इतने खतरनाक थे कि अन्‍य प्लियोसॉर को भी वह नहीं बखश्‍ते थे। उनका भी शिकार कर डालते थे। मौजूदा खोज में शामिल रहे स्टीव एचेस ने बीबीसी न्यूज को बताया कि यह अब तक के सबसे अच्छे जीवाश्मों में से एक है। यह सबसे अलग है क्‍योंकि‍ यह पूरा है। जो खोपड़ी मिली है उसकी ज्‍यादातर चीजें इस जीवाश्‍म में मौजूद हैं। हालांकि यह जीवाश्‍म थोड़ा विकृत हो गया है। 

इस जीवाश्‍म पर एक डॉक्‍युमेंट्री तैयार है, जिसे नए साल पर बीबीसी पर दिखाया जाएगा। इस खोज के बारे में ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी के डॉ. आंद्रे रोवे ने कहा कि वह जानवर इतना विशाल रहा होगा कि वह किसी भी जीव का आसानी से शिकार कर लेता होगा। उन्‍होंने प्लियोसॉर की तुलना एक खतरनाक डायनासोर की प्र‍जाति से की। 

खास बात है कि जीवाश्‍म विज्ञानी (paleontologist) स्टीव एचेस और उनके दोस्‍त फिल जैकब्स दक्षिणी इंग्लैंड के जुरासिक तट पर किममेरिज खाड़ी के पास टहल रहे थे, जब उनके सामने यह जीवाश्‍म आया। कई महीनों की जांच के बाद वह इसे एक्‍सप्‍लोर कर पाए। वैज्ञानिक अब इस जीवाश्‍म का बाकी हिस्‍सा तलाशना चाहते हैं। 

 
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

प्रेम त्रिपाठी

प्रेम त्रिपाठी Gadgets 360 में चीफ सब एडिटर हैं। 10 साल प्रिंट मीडिया ...और भी

संबंधित ख़बरें

Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »