• होम
  • इंटरनेट
  • ख़बरें
  • कोर्ट के आगे झुका Google, यूजर्स के 'प्राइवेट ब्राउजिंग' डेटा को डिलीट करेगी कंपनी

कोर्ट के आगे झुका Google, यूजर्स के 'प्राइवेट ब्राउजिंग' डेटा को डिलीट करेगी कंपनी

2020 में शुरू किया गया मुकदमा, उन लाखों Google यूजर्स से संबंधित है, जिन्होंने 1 जून, 2016 से प्राइवेट ब्राउजिंग का उपयोग किया था।

कोर्ट के आगे झुका Google, यूजर्स के 'प्राइवेट ब्राउजिंग' डेटा को डिलीट करेगी कंपनी

Photo Credit: Reuters

ख़ास बातें
  • 2020 में शुरू किया गया था Google के खिलाफ मुकदमा
  • 2016 से प्राइवेट ब्राउजिंग का उपयोग करने वाले लाखों लोगों की थी याचिका
  • Google के एनालिटिक्स और ऐप्स ने Incognito मोड में भी डेटा ट्रैक किया
विज्ञापन
Google यूजर्स की इंटरनेट एक्टिविटी की कथित ट्रैकिंग के संबंध में एक मुकदमे का निपटारा करने के लिए सहमत हो गया है, जबकि उनका मानना ​​​​था कि वे प्राइवेट ब्राउजिंग कर रहे थे। इस समझौते में अरबों डेटा रिकॉर्ड को हटाना शामिल है। समझौते की शर्तें ओकलैंड, कैलिफोर्निया संघीय अदालत में प्रस्तुत की गईं और अमेरिकी जिला न्यायाधीश यवोन गोंजालेज रोजर्स से अनुमोदन की प्रतीक्षा की जा रही है।

समाचार एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, 2020 में शुरू किया गया मुकदमा, उन लाखों Google यूजर्स से संबंधित है, जिन्होंने 1 जून, 2016 से प्राइवेट ब्राउजिंग का उपयोग किया था। याचिकाकर्ता ने तर्क दिया कि Google के एनालिटिक्स, कुकीज और ऐप्स ने इसे उन लोगों को ट्रैक करने की अनुमति दी, जिन्होंने Chrome के "Incognito" जैसे प्राइवेट ब्राउजिंग मोड एक्टिवेट किए थे। उन्होंने तर्क दिया कि इससे Google को बड़ी मात्रा में व्यक्तिगत जानकारी जमा करने में मदद मिली, जिसमें उनके सोशल कनेक्शन, रुचियों और ऑनलाइन सर्च के बारे में डिटेल्स शामिल थे।

समझौते की शर्तों के तहत, Google प्राइवेट ब्राउजिंग सेशन के दौरान डेटा कलेक्शन के संबंध में अपने खुलासे को अपडेट करेगा, यह प्रक्रिया पहले से ही चल रही है। इसके अलावा, Incognito मोड यूजर्स को पांच साल की अवधि के लिए थर्ड-पार्टी कुकीज को ब्लॉक करने का ऑप्शन दिया जाएगा।

जबकि Google समझौते के हिस्से के रूप में कोई हर्जाना नहीं देगा, व्यक्तियों को व्यक्तिगत आधार पर नुकसान के लिए कंपनी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का अधिकार बरकरार रहेगा। Google के प्रवक्ता जोस कास्टानेडा ने इस बात पर जोर दिया कि कंपनी कभी भी Incognito मोड में व्यक्तिगत यूजर्स के साथ डेटा को शेयर नहीं करती है और मुकदमे को निरर्थक बताते हुए समझौते पर संतुष्टि व्यक्त की।

याचिकाकर्ता का प्रतिनिधित्व कर रहे डेविड बोइस ने इस समझौते को टेक दिग्गजों को जवाबदेह बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बताया।
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

ये भी पढ़े: Google, Google Incognito Mode, Google Private Browsing
नितेश पपनोई Nitesh has almost seven years of experience in news writing and reviewing tech products like smartphones, headphones, and smartwatches. At Gadgets 360, he is covering all ...और भी
Share on Facebook Gadgets360 Twitter ShareTweet Share Snapchat Reddit आपकी राय google-newsGoogle News
 
 

विज्ञापन

Advertisement

#ताज़ा ख़बरें
  1. Lok Sabha Elections 2024: वोटर लिस्ट में ऑनलाइन ऐसे चेक करें अपना नाम
  2. GT vs PBKS Live: गुजरात टाइटंस vs पंजाब किंग्स IPL मैच आज, ऐसे देखें फ्री!
  3. बजाज ऑटो की हर महीने 10,000 Triumph मोटरसाइकिल्स बनाने की तैयारी
  4. KKR vs RCB Live: KKR vs RCB IPL 2024 मैच कुछ ही देर में, यहां देखें फ्री!
  5. Aliens किस रंग के दिखते होंगे? वैज्ञानिकों ने बताया
  6. Apple Watch X में होंगे OLED डिस्प्ले, मेग्नेटिक बैंड, ब्लड प्रेशर मॉनिटरिंग जैसे धांसू फीचर्स! रेंडर लीक
  7. TCL ने लॉन्च किया 1600 निट्स ब्राइटनेस वाला 65 इंच 4K स्मार्ट TV, जानें कीमत
  8. Unhappy Leaves : यह कंपनी दे रही ‘दुखी’ होने पर 10 दिन की छुट्टी
  9. 3 लाख कर्मचारियों को AI ट्रेनिंग दे चुकी इस कंपनी के पास है सबसे बड़ा AI वर्कफोर्स!
  10. Google Maps से EV चार्जर ढूंढना हुआ आसान, अब सर्च से दिखेगा किफायती ट्रैवल ऑप्शन
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2024. All rights reserved.
ट्रेंडिंग प्रॉडक्ट्स »
लेटेस्ट टेक ख़बरें »