Bitcoin माइनिंग पर बैन के बाद ईरान ने फिर उठाया यह कदम!

अवैध रूप से चल रहे बिटकॉइन खनन को रोकने के लिए ईरान के राष्ट्रपति बिटकॉइन को रेगुलेट करने पर कर रहे विचार।

Bitcoin माइनिंग पर बैन के बाद ईरान ने फिर उठाया यह कदम!

मई महीने में ईरान ने चार महीने के लिए बिटकॉइन खनन पर लगा दिया है पूर्ण प्रतिबंध।

ख़ास बातें
  • बिटकॉइन को रेगुलेट करने की दिशा में ईरान ने शुरू की कवायद।
  • अल साल्वाडोर लीगल टेंडर के रूप में बिटकॉइन को कर चुका है स्वीकार।
  • विषम आर्थिक परिस्थितियों के बावजूद बिटकॉइन को लेकर गंभीर है ईरान।
क्रिप्टोकरेंसी मार्केट को अनिश्चितताओं का बाजार कहा जाता है। बावजूद इसके दुनिया के अलग अलग देश डिजिटल करेंसी को लेकर अब गंभीर होने लगे हैं। अब ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने अपनी सरकार से बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी को रेगुलेट करने के लिए एक रूपरेखा पर काम शुरू करने के लिए कहा है। उनका मानना ​​​​है कि कानूनों और नियमों के बारे में स्पष्ट कम्यूनिकेशन का होना बेईमान क्रिप्टो व्यवसायों को हतोत्साहित करने में मदद करेगा, जो अब तक बेधड़क चलते आ रहे थे। जबकि ईरान ने बिजली की कमी के कारण इस साल चार महीने के लिए बिटकॉइन माइनिंग पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया था।

ज्ञात हो कि अभी हाल ही में अल साल्वाडोर ने बिटकॉइन को लीगल टेंडर के रूप में स्वीकार किया है। हालांकि अमेरिकन डॉलर का उपयोग भी देश में इसके लिए जारी रहेगा मगर बिटकॉइन को लीगल टेंडर के रूप में स्वीकार करने वाला साल्वाडोर पहला देश बन गया है। इससे संकेत मिलता है कि क्रिप्टोकरेंसी मार्केट के लिए भविष्य में अपार संभावनाएं हैं। 11 जून को खबर लिखने तक भारत में बिटकॉइन की कीमत 27.2 लाख रुपये थी।  

अमेरिका ने ईरान पर प्रतिबंध अधिनियम के माध्यम से अमेरिका के विरोधियों का मुकाबला करने वाला कानून CAATSA लगा दिया है। इससे अमेरिकन कंपनियां अब स्वीकृत संस्थाओं के साथ व्यापार नहीं कर सकती हैं। हालाँकि, आर्थिक प्रतिबंध ईरान को एक स्थान पर रखते हैं क्योंकि पश्चिम से संबद्ध कंपनियाँ इसे नकारने के लिए बाध्य हैं, जिससे एक लहर प्रभाव पैदा होता है जो ईरान के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को गंभीर रूप से प्रभावित करता है। 

अब ईरान ने फिर से एक पहल की है। अमेरिकी डॉलर के माध्यम से व्यापार प्रतिबंधित होने के चलते यह देश मुख्य रूप से वैश्विक बैंकिंग प्रणाली से अलग हो जाता है। इस तरह की विषम परिस्थितियों के चलते भी ईरान ने क्रिप्टोकरेंसी क्रांति का दिल खोलकर स्वागत किया है। Elliptic की एक स्टडी के अनुसार ईरान का बिटकॉइन हैश रेट 4.5 प्रतिशत है। बिटकॉइन हैश रेट साधारणतया नेटवर्क की अच्छी बुरी स्थिति के बारे में बताने वाला एक पैमाना है। अधिक हैश रेट यानि नेटवर्क के अंदर अधिक प्रोसेसिंग पावर मौजूद है। उदाहरण के लिए चीन 55 प्रतिशत हैश रेट के साथ सबसे अग्रणी है और अमेरिका 11 प्रतिशत हैश रेट के साथ दूसरे स्थान पर है। 

बिटकॉइन माइनिंग के दैरान दिन रात हजारों की संख्या में कंप्यूटर मशीनों द्वारा जटिल समीकरणों पर काम चलता है जिससे इस प्रक्रिया में ऊर्जा खपत बहुत बढ़ जाती है। दो साल पहले चीनी खननकारियों को बड़े पैमाने पर ईरान में सेटअप के लिए प्रोत्साहित किया गया क्योंकि वहां पर बिजली काफी सस्ती थी। जुलाई 2020 से लेकर ईरान ने 50 बिटकॉइन माइनिंग कंपनियों को लाइसेंस दिए। मगर यह ज्यादा दिन तक चल नहीं पाया। ईरान में बिटकॉइन माइनिंग के चलते बिजली संकट गहराने लगा था। देश में अनियोजित ब्लैक आउट होने लगे और इसी कारण ईरानी सरकार ने बिटकॉइन माइनिंग पर इस साल मई महीने में चार महीने के लिए पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगा दिया। मगर बावजूद इसके रिपोर्ट्स कहती हैं कि अवध रूप से यह खनन अभी भी जारी है।

राष्ट्रपति रूहानी ने कहा कि अवैध रूप से क्रिप्टोकरेंसी खनन कर रही कंपनियां 6 से 7 गुना तक ज्यादा बिजली खपत कर रही हैं। तेल भंडारण के मामले में ईरान विश्व में चौथे स्थान पर आता है। मगर इकोनॉमिक सेंक्शन के चलते यह इसका लाभ नहीं उठा सकता है। इसलिए इस ऊर्जा का इस्तेमाल देश ने बिटकॉइन की माइनिंग के लिए किया। 
Comments

लेटेस्ट टेक न्यूज़, स्मार्टफोन रिव्यू और लोकप्रिय मोबाइल पर मिलने वाले एक्सक्लूसिव ऑफर के लिए गैजेट्स 360 एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें गूगल समाचार पर फॉलो करें।

Share on Facebook Tweet Share Snapchat Reddit आपकी राय
 
 

ADVERTISEMENT

Advertisement

#ट्रेंडिंग टेक न्यूज़
  1. 395 दिन तक 600GB डाटा, अनलिमिटिड कॉलिंग और OTT सब्सक्रिप्शन मिलेगा BSNL के इस प्लान में...
  2. 24 घंटे में 5 हजार पर्सेंट बढ़ी यह क्रिप्टोकरेंसी, Dogecoin को छोड़ा पीछे
  3. सिंगल चार्ज में 1,200 किलोमीटर चलने वाली 8-सीटर अमेरिकी SUV आ रही है भारत!
  4. साबुन मंगाया था मिल गया Realme Pad टैबलेट, एक ट्विटर यूज़र ने ऐसे खींची Flipkart की टांग
  5. सिंगल चार्ज में 115 KM चलने वाला इलेक्ट्रिक स्कूटर Rs 24 हज़ार हुआ सस्ता, जानें नई कीमत
  6. दुनिया में Crypto Currency निवेश के मामले में 10 करोड़ से अधिक निवेशकों के साथ भारत नंबर 1
  7. 6GB रैम और 128GB स्टोरेज के साथ आएगा Poco M4 Pro 5G फोन! FCC लिस्टिंग से मिला इशारा...
  8. Dream11 पर इस राज्य में लगा बैन, ये है वजह ...
  9. Ola S1, Bajaj Chetak, TVS iQube को टक्कर देने अगले साल आ रहा है Honda का इलेक्ट्रिक स्कूटर
  10. 64MP कैमरा के साथ Oppo K9s स्मार्टफोन इस महीने के अंत तक होगा लॉन्च
#ताज़ा ख़बरें
  1. 395 दिन तक 600GB डाटा, अनलिमिटिड कॉलिंग और OTT सब्सक्रिप्शन मिलेगा BSNL के इस प्लान में...
  2. साबुन मंगाया था मिल गया Realme Pad टैबलेट, एक ट्विटर यूज़र ने ऐसे खींची Flipkart की टांग
  3. Amazon Great Indian Festival 2021 Sale में ट्रिमर और शेवर पर ये हैं धमाकेदार बेस्ट डील्स!
  4. 30 दिन तक 30GB डाटा और कई सारे बेनेफिट देता है Airtel का ये रीचार्ज, कीमत 300 से भी कम...
  5. 16GB रैम और दो डिस्प्ले के साथ Samsung W22 5G फोल्डेबल फोन लॉन्च, जानें कीमत
  6. 120Hz डिस्प्ले, 5,000mAh बैटरी व 33W सुपर चार्ज फास्ट चार्जिंग के साथ Infinix Note 11, Infinix Note 11 Pro लॉन्च
  7. Amazon Great Indian Festival 2021 Sale: बजट से लेकर प्रीमियम स्मार्टफोन तक, इन पॉपुलर डील्स को न करें मिस
  8. 6G टेक्नोलॉजी पर भारत में शुरू होगा काम, दूरसंचार अनुसंधान संगठन को मिले आदेश
  9. CSK vs KKR IPL 2021 Final आज: कहां, कब और कैसे ऑनलाइन देखें कोलकाता और चेन्नई का धमाकेदार फाइनल मैच
  10. 8GB रैम Samsung Galaxy A52s 5G वेरिएंट को मिला नया मिंट कलर ऑप्शन, जानें कीमत
© Copyright Red Pixels Ventures Limited 2021. All rights reserved.
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com